छत्तीसगढ़

तोड़फोड़ करने पहुंचे निगम अधिकारी से भिड़े कुकरेजा, थाने तक पहुंचा मामला

रायपुर। छ्त्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में नगर निगम की सत्ता कांग्रेस के हाथों में है और प्रदेश सरकार में बीजेपी की सरकार काबिज है. ऐसे में पार्टियों की तनातनी अमूमन सामने आती रहती हैं. लेकिन, हैरानी तब और बढ़ गई जब नगर निगम के प्रशासनिक अधिकारी बिना सूचना के अतिक्रमण विरोधी कार्रवाई के लिए पहुंच गए। कांग्रेस पार्षद और निगम एमआईसी सदस्य की भी बात नहीं सुनी गई। स्थानीय जनता भी इस तनातनी से परेशान है।

मामला इतना बढ़ा किन दोनों ही पक्ष थाने तक पहुंच गए और पुलिस में एक दूसरे के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है. मामले के अनुसार नगर निगम के एमएसी मेम्बर अजीत कुकरेजा ने अपने वार्ड के लोगों के साथ थाने में शिकायत दर्ज कराई है कि उनके वार्ड में निगम के ही अधिकारी अवैध बसूली कर रहे हैं, जहां पर अतिक्रमण नहीं हैं वहां के गरीब लोगों से तोड़फोड़ न करने की एवज में पैसे मांगते हैं।

अजीत कुकरेजा ने प्रशासनिक अधिकारियों पर पक्षपात का आरोप लगाया है। उनका आरोप है कि भाजपा के विधायकों द्वारा अधिकारियों से दबाव बनाने की कोशिश की जा रही है क्योंकि वो कोंग्रेस के पार्षद हैं जबकि यही अधिकारी बीजेपी के नेताओ के अवैध अतिक्रमण पर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं।

बुधवार की सुबह निगम के अतिक्रमण विरोधी दस्ता के नए अधिकारी राकेश अबद्धया द्वारा गरीबों को परेशान करने का काम किया जा रहा है और महिलाओं से धक्कामुक्की भी की है. आरोप के बाद पुलिस अधिकारियों ने मामले में जांच कर कार्रवाई की बात कही है।

Back to top button