बिज़नेस

ट्रेनों में मिलेगी कैशलेस सुविधा

कर सकेंगे डेबिट-क्रेडिट कार्ड से भुगतान

भोपालः भारतीय रेलवे अपने यात्रियों का खास ध्यान रखने के लिए नई पहल करने जा रही है। अधिकारियों ने दावा किया कि रेलवे जल्द ही रेलगाड़ियों में भी कैशलेस सुविधा मुहैया कराएगा। इससे यात्रियों को खाने-पीने की चीजों को खरीदने में काफी आसानी होगी।

राजधानी ट्रेनों में इसकी शुरूआत पहले ही कर दी गई है और जल्द ही सामान्य ट्रेनों के यात्रियों को भी इसका लाभ मिल सकेगा। रेलवे अधिकारियों ने बताया कि ट्रेन में सफर कर रहे वह यात्री जो चाय, कॉफी, खाना लेना चाहते हैं लेकिन कैश की दिक्कत की वजह से नहीं खरीद पाते, उनकी सुविधा का ख्याल रखते हुए रेलवे ने अब ट्रेनों में कैशलेश सुविधा मुहैया कराने का फैसला किया है।

कैश न होने पर भी खरीद सकेंगे खाने-पीने की चीजें
रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड के माध्यम से यात्रियों को यह सुविधा मुहैया कराई जाएगी। इससे यात्रियों के पास कैश न रहने पर भी वे खाने-पीने की चीजें खरीद सकते हैं। वाराणसी रेलखंड के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी संजय यादव ने बताया कि डेबिट और क्रेडिट कार्ड से लेनदेन की शुरूआत कुछ राजधानी ट्रेनों में की गई है। जल्द ही इसे पैंट्रीकार वाली रेलगाड़ियों में भी लागू किया जाएगा।

वेंडर के पास होंगी पीओएस मशीनें : अधिकारी ने बताया कि रेलवे बोर्ड की हाल ही में हुई बैठक में यह फैसला लिया गया है कि यात्री अब डेबिट और क्रेडिट कार्ड से भी खरीदारी कर सकते हैं। इसके लिए रेलगाड़ियों में चलने वाले वेंडर अब पीओएस मशीनें लेकर चलेंगे।

यात्रियों को होगा फायदा : अधिकारियों का दावा है कि पीओएस मशीनों से आप भीम एप और पेटीएम के जरिए भी यात्री अपना भुगतान कर सकेंगे। पीओएस मशीन से पेमेंट करने पर आपको खरीदी गई सामग्री का बिल भी मिलेगा। इससे यात्रियों को फायदा होगा। वेंडर अब यात्रियों से सामान के ज्यादा पैसे नहीं ले पाएंगे।

हो सकता है जुर्माना : एक रेल अधिकारी ने बताया कि शुरूआती दौर में रेलवे की तरफ से इस योजना को 26 रेलगाड़ियों में शुरू किया गया है। इस योजना के सफल होने पर पीओएस मशीनों की सुविधा पैंट्रीकार वाली रेलगाड़ियों में दी जाएगी। उन्होंने बताया कि यह नियम भी बनाया गया है कि संबंधित रेलगाड़ियों में पीओएस से भुगतना नहीं कराने पर वेंडर से आईआरसीटीसी की तरफ से जुमार्ना वसूला जाएगा।

Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.