सावधान : अगर आप 16 जून को बस से सफ़र करने वाले हैं तो ये खबर जरुर पढ़े

सरकार ने नहीं की मांग पूरी तो थम जायेगा बसों का पहिया

सावधान : अगर आप 16 जून को बस से सफ़र करने वाले हैं तो ये खबर जरुर पढ़े

रायपुर : देश में बढ़ते पेट्रोल डीजल के दामों ने जहाँ आम आदमी को परेशान कर रखा है तो वहीँ अब इसका असर यात्री वाहनों पर भी होने लगा हैं. इसी का नतीजा है कि जल्द ही किराए में बढ़ोत्तरी सहित चार सूत्रीय मांगों को लेकर छत्तीसगढ़ में बसों के पहिये थमने वाले है.

बीते दिनों बस ऑपरेटरों और मालिकों की हुई बैठक में 16 जून से बसों के पहिये रोक कर प्रदर्शन करने का निर्णय लिया गया है. बस संचालकों ने अपनी मांगों को लेकर परिवहन विभाग को अवगत कराते हुए उन्हें 15 जून तक का समय दिया है.

संघ ने कहा है कि अगर उनकी मांगों को 15 जून तक पूरा नहीं किया जाता तो वे 16 जून से बसों का संचालन बंद कर हड़ताल पर चले जायेंगे. छत्तीसगढ़ यातायात महांसघ के महासचिव हाजी शफीक रजा ने बताया कि उनकी प्रमुख मांगों में बसों का किराया 40 प्रतिशत तक बढाने और जिन रूट पर टोल वसूला जाता है उसका अलग से पैसे का भुगतान किया जाये.

इसके अलावा परमिट में कम से कम 10 मिनट का अंतर होना चाहिए साथ ही यात्री वाहनों की आयु सीमा 15 साल करने और 2013 के पूर्व रजिस्टर्ड यात्री वाहनों से व्हील बेस टैक्स की वसूली ना की जाये.

संघ ने सरकार को अल्टीमेटम देते हुए कहा है कि अगर उनकी मांगों पर जल्द ही कोई विचार नहीं होगा तो बसों के पहिये रोक कर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जायेंगे. वहीँ परिवहन विभाग ने भी मांगों को गंभीरता से लेते हुए विचार करने की बात कही है. गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में डीजल के दामों में भारी बढ़ोत्तरी हुई है जिसके चलते यात्री वाहनों के संचालकों में बस संचालन को लेकर चिंता शुरू हो गई है.

advt
Back to top button