राष्ट्रीय

PNB SCAM: सीबीआई ने गीतांजलि समूह के विपुल अंबानी सहित 5 लोगों को किया गिरफ्तार

बता दें कि सीबीआई ने इससे पहले पंजाब नेशनल बैंक के तीन और अधिकारियों को गिरफ्तार किया था

PNB SCAM: सीबीआई ने गीतांजलि समूह के विपुल अंबानी सहित 5 लोगों को किया गिरफ्तार

पीएनबी घोटाला मामले में पांच लोग और गिरफ्तार किए गए हैं। इनमें गीतांजलि समूह के विपुल अंबानी को भी गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा कविता मानकीकर, अर्जुन पाटिल, कपिल खंडेलवाल और नितांत शाही को गिरफ्तार किया गया हैं। इन सभी को सीबीआई ने गिरफ्तार किया है। बता दें इस इस घोटाले के बाद सीबीआई लगातार छापेमारी कर रही है। अभी और लोगोें को गिरफ्तार किया जा सकता है।

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

बता दें कि सीबीआई ने इससे पहले पंजाब नेशनल बैंक के तीन और अधिकारियों को गिरफ्तार किया था। इनमें फोरेक्स विभाग में तत्कालीन चीफ मैनेजर बेचू तिवारी, स्केल-2 मैनेजर यशवंत जोशी, एक्सपोर्ट सेक्शन में स्केल वन आफिसर हैंडलिंग प्रफुल्ल सावंत शामिल हैं। इस मामले में मंगलवार को हुई 5 गिरफ्तारी के बाद अब तक कुल 11 गिरफ्तारी हो चुकी हैं, जिनमें से पांच बैंक से जुड़े हुए हैं।

गोकुलनाथ शेट्टी के कामकाज पर निगरानी की जिम्मेदारी बेचू तिवारी पर थी। एजेंसी ने इन तीनों अधिकारियों के नवी मुंबई, अंधेरी और डोंबिवली स्थित आवासों पर तलाशी भी ली। वहीं, सोमवार देर शाम लोअर परेल स्थित पेनिनसुला बिजनेस पार्क में नीरव मोदी समूह के कार्यालयों पर भी छापा मारा।

पीएनबी घोटाले में शनिवार को पहली गिरफ्तारी हुई थी। सीबीआई ने बैंक के पूर्व डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी समेत 3 बैंक कर्मचारियों को हिरासत में लिया था। शेट्टी के अलावा बैंक कर्मचारी मनोज खरात और पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी ग्रुप के हेमंत भट्ट को सीबीआई की विशेष अदालत में पेश किया गया था। जहां इन तीनों को तीन मार्च तक के लिए सीबीआई कस्टडी में भेज दिया गया।

पूछताछ में बैंक के पूर्व अधिकारी गोकुलनाथ शेट्टी ने स्वीकार किया था कि उन्हें LoU जारी करने और राशि के बदले रिश्वत दी जाती थी। शेट्टी ने बताया कि एलओयू के अमाउंट के आधार पर प्रतिशत फिक्स था। गोकुलनाथ शेट्टी के कबूल करने के बाद, जांच एजेंसियों को आगे की पड़ताल में काफी मदद मिलेगी। आपको बता दें कि सीबीआई तीनों आरोपियों को उसी ब्रांच में लेकर गई जहां यह घोटाला हुआ था।

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.