सीबीआई आज महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख से करेगी पूछताछ

सीबीआई के एक वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में यह पूछताछ की जाएगी

मुंबई:केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो(सीबीआई) के एक वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में 100 करोड़ के वसूली कांड में आज महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख से पूछताछ होने वाली है.

अनिल देशमुख पर आरोप है कि इन्होंने पुलिस अफसरों सचिन वाजे, भुजबल, पाटिल को 100 करोड़ की वसूली के आदेश दिए. मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने ये संगीन आरोप लगाए हैं. सीबीआई आज इन्ही आरोपों पर देशमुख से पूछताछ करेगी. इससे पहले सीबीआई अनिल देशमुख के दो निजी सहायकों संजीव पलांडे और कुंदन से पूछताछ कर चुकी है.

सीबीआई देशमुख पर आरोप लगाने वाले पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह, क्राइम ब्रांच के असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर रहे सचिन वाजे, डीसीपी राजू भुजबल. एसीपी पाटिल से भी पूछताछ कर चुकी है. बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश पर जांच कर रही सीबीआई को 15 दिनों से अंदर जांच पूरी करनी है, जबकि आदेश के बाद एक हफ्ता बीच चुका है.

क्या है पूरा मामला

दक्षिण मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटकों के साथ एसयूवी मिलने के मामले में सहायक पुलिस निरीक्षक वाजे जांच के दायरे में हैं. इसके बाद मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख पर सचिन वाजे से 100 करोड़ रुपए की उगाही करने के निर्देश देने के आरोप लगाए थे. इस बाबत पहले सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई जांच के लिए याचिका दायर की गई थी जिसे सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट भेज दिया था.

हाई कोर्ट ने दोनों पक्षों की बात सुनने के बाद मामले की जांच सीबीआई को करने के निर्देश दिए थे साथ यह भी कहा था कि सीबीआई 15 दिनों के भीतर इस मामले में अपनी आरंभिक जांच पूरी करें. मुंबई हाई कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ महाराष्ट्र सरकार और पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख सुप्रीम कोर्ट भी गए थे लेकिन उन्हें वहां से कोई राहत नहीं मिल सकी.

उधर सीबीआई ने इस मामले में जांच के लिए लगभग एक दर्जन अधिकारियों की विशेष टीम मुंबई भेजी हुई है जहां इस बाबत जांच और पूछताछ का काम जारी है इसी के तहत अब अनिल देशमुख को पूछताछ के लिए बुलाया गया है.

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button