दुर्गा महाविद्यालय में मनाया सर्जिकल स्‍ट्राईक दिवस

रायपुर।

भारतीय सेना के स्‍पेशल कमांडो फोर्स द्वारा 28 एवं 29 सितम्‍बर, 2016 की मध्‍य रात्रि को पाकिस्‍तान की धरती में मौजूद आतंकवादी और लांचिंग कैंपों के खिलाफ की गयी कार्रवाई के प्रति अपनी कृतज्ञता और सम्‍मान प्रकट करने के उद्देश्‍य से पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी), रायपुर और रीजनल आउटरीच ब्‍यूरो (आरओबी), रायपुर के संयुक्‍त तत्‍वावधान में दुर्गा महाविद्यालय के नेशनल कैडिट कोर (एनसीसी) और राष्‍ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) के सहयोग से दुर्गा महाविद्यालय, रायपुर के ऑडिटोरियम में ‘सर्जिकल स्‍ट्राईक दिवस’ मनाया गया है ।

इस अवसर पर हस्‍ताक्षर अभियान का भी आयोजन किया गया जिसमें आमंत्रित अतिथि और छात्र-छात्राओं ने हस्‍ताक्षर कर भारतीय सेना के प्रति अपनी कृतज्ञता और सम्‍मान प्रकट की ।

इस कार्यक्रम में पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी), रायपुर और रीजनल आउटरीच ब्‍यूरो (आरओबी), रायपुर के अपर महानिदेशक  सुदर्शन पनतोड़े, दुर्गा महाविद्यालय के प्राचार्य आर.के. तिवारी, नेशनल कैडिट कोर, एयर विंग के ऑफिसर डॉ. विजय कुमार चौबे, राष्‍ट्रीय सेवा योजना की संयोजिका प्रोफेसर सुनीता, नेशनल कैडिट कोर आर्मी विंग की ऑफिसर डॉ. नमिता, पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी), रायपुर और दूरदर्शन समाचार, रायपुर के सहायक निदेशक सुनील कुमार तिवारी और रीजनल आउटरीच ब्‍यूरो (आरओबी), रायपुर के कार्यालय प्रमुख शैलेष फाये सहित दुर्गा महाविद्यालय के अध्‍यापकगण एवं एनसीसी-एनएसएस कैडिटों के साथ ही साथ बड़ी संख्‍या में विद्यार्थीगण उपस्थित थे ।

दुर्गा महाविद्यालय के प्राचार्य आर.के. तिवारी ने कहा कि भारतीय सेना के अदम्‍य साहस और पराक्रम की जितनी भी तारीफ की जाए वह कम है । उन्‍होंने बताया कि भारतीय सेना द्वारा सर्जिकल स्‍ट्राईक दुश्‍मन को चेतावनी देने के लिए किया गया था । तिवारी ने बताया कि भारत की इन्‍फेन्‍ट्री दुनिया की सबसे बेहतरीन इन्‍फेन्‍ट्री मानी जाती है । उन्‍होंने इराक-अमेरिका की लड़ाई का उदाहरण देते हुए बताया कि इराक की इन्‍फेन्‍ट्री को भारतीय सेना ने ट्रेनिंग दी थी और इसीलिए अमेरिका थल सेना के माध्‍यम से इराक पर हमले की हिम्‍मत नहीं जुटा सका और केवल एयर स्‍ट्राईक के माध्‍यम से ही हमला करता रहा है ।

अपर महानिदेशक सुदर्शन पनतोड़े ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि सर्जिकल स्‍ट्राईक के महत्‍व को बरकरार रखने के लिए हमें अपने घर से शुरूआत करनी होगी । सैनिकों के प्रति सम्‍मान की भावना समाज में जागृत हो ऐसी चर्चा शुरू होनी चाहिए । उन्‍होंने छात्रों से आह्वान किया कि वे स्‍वयं भी डिफेंस सर्विसेस में जाने के लिए प्रेरित हों और अन्‍य लोगों को प्रेरित करें ।

इसके पूर्व कार्यक्रम में अतिथियों का स्‍वागत करते हुए नेशनल कैडिट कोर, एयर विंग के ऑफिसर डॉ. विजय कुमार चौबे ने सर्जिकल स्‍ट्राईक क्‍या है ? और इसे क्‍यों किया गया ? इसकी विस्‍तार से जानकारी दी । उन्‍होंने बताया कि पठानकोट और उरी हमलों के बाद सैनिकों के सम्‍मान की रक्षा के लिए सर्जिकल स्‍ट्राईक को अंजाम दिया गया और पूरा अभियान बिना किसी जन हानि के पूरा हुआ ।

कार्यक्रम को पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी), रायपुर और दूरदर्शन समाचार, रायपुर के सहायक निदेशक सुनील कुमार तिवारी और रीजनल आउटरीच ब्‍यूरो (आरओबी), रायपुर के कार्यालय प्रमुख शैलेष फाये ने भी संबोधित किया ।

भारतीय सेना की उपलब्धियों, देश के प्रति समर्पण, पराक्रम और अदम्‍य साहस पर अपने सारगर्भित विचार प्रकट करने वाले एनसीसी और एनएसएस के कैडिटों- स्‍वेता गुप्‍ता, मधु कुमारी, काजल साहू, सैयद कलामुद्दीन, योगमय प्रधान, सुमीत अग्रवाल, रवि गोपलानी को अपर महानिदेशक सुदर्शन पनतोड़े ने पुरस्‍कार प्रदान कर सम्‍मानित किया । कार्यक्रम के अंत में आभार प्रदर्शन, दुर्गा महाविद्यालय, रायपुर की राष्‍ट्रीय सेवा योजना की संयोजिका प्रोफेसर सुनीता द्वारा किया गया ।

Back to top button