विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय युवा दिवस कार्यक्रम मनाया

अंबिकापुर।

संत गहिरा गुरु विश्वविद्यालय सरगुजा, अम्बिकापुर में रष्ट्रीय युवा दिवस – स्वामी विवेकानंद जयन्ती का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का आरंभ अतिथियों के द्वारा माँ सरस्वती स्वामी विवेकानंद के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीपप्रज्वलन से हुआ ।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विश्वविद्यालय के यशस्वी कुलपति प्रो. रोहिणी प्रसाद ने कहा कि स्वामी विवेकानंद हम सब के आदर्श महापुरूष हैं और प्रत्येक तरुणों के पथ प्रदर्शक हैं। स्वामी जी ने अपनी 39 वर्ष की अल्पायु में जो दिशा और संदेश पूरी दुनिया को दिया है वह आज उसी का अनुसरण किया जा रहा है। माननीय कुलपति ने कहा कि हमें अपने महापुरुषों के जन्मदिवस और उनकी स्मरणीय तिथियों एवं घटनाओं को याद करते रहना चाहिए।

क्योंकि इससे हमारे जीवन में परिष्कार होता है और उससे जीवन में प्रेरणा मिलती है। निःसंदेह स्वामी विवेकानंद जी हमारे युवाओं के प्रेरणा महापुरुष हैं। विश्वविद्यालय के एन.एस.एस. समन्वयक डाॅ. अनिल कुमार सिन्हा ने राष्ट्रीय युवा दिसव की शुभकामनाऐं देते हुए कहा कि आज के दिन संपूर्ण देश में राष्ट्रीय सेवा योजना के प्रतीक महापुरुष स्वामी विवेकानंद जयंती धूम-धाम से मनाई जाती है क्योंकि स्वामी जी एन.एस.एस. और युवाओं के आदर्श प्रतीक हैं।

डाॅ. सिन्हा जी ने स्वामी विवेकनंद जी के जीवन पर गंभीर प्रकाश डालते हुऐ कहा कि स्वामी विवेकानंद के द्वारा गुलामी के समय में पूरी दुनिया भारत की संस्कृति से परिचित हुई थी। कार्यक्रम का संचालन करते हुए प्रयोजनमूलक हिन्दी विभाग के अध्यक्ष डाॅ. राजकुमार उपाध्याय ने कहा कि स्वामी विवेकानंद देश की परतंत्रता के काल में शिकागो धर्म सम्मेलन में हिन्दुत्व की कीर्ति-पताका फहराया था। आज पूरी दुनिया उनके आध्यात्मिक ज्ञान और विचार का अनुकरण कर रही है।

डाॅ. उपाध्याय ने कहा कि भारतीय जनता को आहवान करते हुए स्वामी विवेकानंद ने बोला था-नया भारत निकल पडे, मोची की दुकान से, भडभूजे की भाड से, कारखाने से, हाट से, बाजार से, निकल पडे – झाडियो,ं जंगलों, पहाडों, पर्वतों से।

उन्होंने बताया कि पहली बार स्वामी विवेकानंद जी ने भारतीयों को अमृत-पुत्र कहा था और अपने लक्ष्य की प्राप्ति तक चलते रहने के लिए कहा था। कार्यक्रम के अंत में शोभना सिंह ने धन्यवाद ज्ञापन किया। कार्यक्रम प्राचार्य डाॅ. बी.पी. तिवारी, ओ.एस.डी.पी. डी. वर्मा, मो. वजीर आलम, यू.टी.डी. एन.एस.एस. प्रमुख श्री जयस्तु दत्ता आदि समस्त विश्वविद्यालय परिवार की उपस्थिति रही। इसकी सूचना विश्वविद्यालय के जनसम्पर्क अधिकारी डाॅ. राजकुमार उपाध्याय ने दी।

1
Back to top button