छेरछेरा का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया

धनेश्वर साहू

जैजैपुर। आज पूरे छत्तीसगढ़ में फसल पकने के पहली बार लोगों एवं किसानों ने छेरछेरा का त्यौहार मनाते हुए दिखाई दे रहे है ,जिसमें अधिकांश नन्हे-मुन्ने बच्चों ने एवं युवा वर्ग घर-घर जाकर धान की मांग की।

जहां पर कृषक वर्ग के लोगों ने टोकरी में रखे धान एवं कुछ लोगों ने पैसे भी उन छेरछेरा मांगने वाले लोगों को अपना दान देकर हर्ष उल्लास उनके उमंग भरा जहां पर युवा वर्ग के लोगों ने डंडा नृत्य करते हुए अपना छेरछेरा अभियान को जारी रखे हुए हैं।

बच्चे भी धान एवं पैसे पाकर हर्षित हैं वहीं पर युवा वर्ग के चेहरे भी उमंग से भरा हुआ दिखाई दे रहा है ।ग्रामीण अपने घरों में पकवान बना रहे हैं और यह छत्तीसगढ़ का पहला पर्व त्योहार छेरछेरा मनाया जा रहा है।

लेकिन पहले की भांति यह त्यौहार कम दिखाई देने लगा है वहीं पर शासकीय कार्यालय खुले हुए हैं लेकिन वहां पर लोगों का भीड़ दिखाई नहीं दे रहा है कायालय सुना _सुना लग रहा है। जहां पर सभी शासकीय ऑफिसों में भीड़ नहीं हैं।

वहीं पर जिला सहकारी केंद्रीय मर्यादित बैंक जयजयपुर में किसान अपनी मजदूरी का गाढ़ी कमाई के राशि के लिए भीड़ दिखाई दे रही है। जहां पर आॉधी रात्रि से ही यहां पर किसान लोग अपने पासबुक को जमा किए हुए हैं और उन पर नजर रखे हुए हैं।

इस तरह से केवल शासकीय कार्यालय नाम मात्र का औपचारिक निभाने के लिए खुला है। लेकिन जिला सहकारी बैंक के कर्मचारी इस भीड़ को देखते हुए काफी परेशान नजर आ रहे हैं इस तरह से यह त्यौहार छत्तीसगढ़ के जयजयपुर में मनाया जा रहा है।

यहां पर आवागमन के साधनों का भी अभाव दिखाई पड़ रहा है सारी दुकानें बंद हैं वांहन भी ठप पड़े हुए हैं जिनसे यहां के डाकघर से डाक निकलना मुश्किल है। आगमन का साधन पूर्ण रूप से ठप हो चुका है । कस्बा होने के नाते जयजयपुर में बड़ी धूमधाम से बच्चे एवं युवा छेरछेरा को मना रहे हैं।

1
Back to top button