पेट्रोल-डीजल पर घटे उत्पाद शुल्क से केंद्र को 45 हजार करोड़ का नुकसान

पेट्रोल-डीजल की कीमतों को कम करने के लिए नरेंद्र मोदी की सरकार ने दीपावली से पहले एक बड़ा फैसला लिया. पेट्रोल पर 5 रुपये उत्पाद शुल्क घटा दिया गया

नई दिल्ली : पेट्रोल-डीजल की कीमतों को कम करने के लिए नरेंद्र मोदी की सरकार ने दीपावली से पहले एक बड़ा फैसला लिया. पेट्रोल पर 5 रुपये उत्पाद शुल्क घटा दिया गया, तो डीजल पर 10 रुपये. इसके बाद कई राज्यों की सरकारों ने पेट्रोल-डीजल पर मूल्यवर्द्धित कर  में कटौती का एलान कर दिया है. महंगाई से त्रस्त आम लोगों को सरकारों के इस फैसले से बड़ी राहत मिलेगी.

हालांकि, केंद्र सरकार को इसका खामियाजा भी भुगतना होगा. एक विदेशी ब्रोकरेज कंपनी की रिपोर्ट में कहा गया है कि डीजल और पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क में कटौती से राजकोष पर 45,000 करोड़ रुपये का असर पड़ेगा. इसकी वजह से केंद्र सरकार का राजकोषीय घाटा 0.3 प्रतिशत बढ़ जायेगा. जापानी ब्रोकरेज कंपनी नोमुरा के अर्थशास्त्रियों ने दीपावली के दिन 4 नवंबर को यह रिपोर्ट जारी की.

नोमुरा के अर्थशास्त्रियों ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि कुल खपत के हिसाब से, इस आश्चर्यजनक कदम से पूरे वित्त वर्ष के लिए राजकोष पर एक लाख करोड़ रुपये का असर पड़ेगा, जो सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 0.45 प्रतिशत होगा. चालू वित्त वर्ष के शेष महीनों के लिए, राजकोष पर 45,000 करोड़ रुपये का असर पड़ेगा, जिससे राजकोषीय घाटा बढ़ जायेगा.

ब्रोकरेज ने कहा कि अब उसे उम्मीद है कि राजकोषीय घाटा 6.5 प्रतिशत पर आ जायेगा, जबकि पहले का अनुमान 6.2 प्रतिशत था. कंपनी ने यह भी कहा कि राजकोषीय घाटा अभी भी 6.8 प्रतिशत के लक्ष्य से कम रहेगा. केंद्र सरकार ने बुधवार को दीपावली की पूर्व संध्या पर पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क में 5 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 10 रुपये प्रति लीटर की कटौती की घोषणा की.

Earthquake : गुजरात, असम और इंडोनेशिया में भूकंप के झटके 

केंद्र सरकार के इस कदम के बाद कई राज्यों ने पेट्रोल और डीजल पर वैट में कमी करने का एलान किया. इस तरह आम लोगों को दिवाली पर डबल गिफ्ट मिल गया है. केंद्र सरकार के उत्पाद शुल्क घटाने के बाद चार महानगरों में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बड़ी गिरावट आयी.

दिल्ली में 4 नवंबर को पेट्रोल की कीमतें 103.97 रुपये पर आ गयी, जबकि डीजल की कीमत 86.67 रुपये रही. इसी तरह मुंबई में पेट्रोल 109.98 रुपये और डीजल 94.14 रुपये, कोलकाता में पेट्रोल 104.67 रुपये और डीजल 89.79 रुपये जबकि चेन्नई में पेट्रोल 101.40 रुपये और डीजल 91.43 रुपये पर आ गया.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

केंद्र सरकार के इस कदम के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मोदी सरकार पर हमला बोला. कहा कि केंद्र सरकार की ओर से उत्पाद शुल्क में कटौती किये जाने के बाद राज्य सरकार की ओर से लगाये जाने वाले वैट में स्वत: एक अनुपात में कमी आ जाती है. उन्होंने केंद्र सरकार से मांग की कि महंगाई घटाने के लिए केंद्र सरकार उत्पाद शुल्क में और कटौती करे.

बिहार की नीतीश कुमार सरकार ने सबसे पहले पेट्रोल पर 3.20 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 3.90 रुपये प्रति लीटर टैक्स में कटौती का एलान किया. पेट्रोल-डीजल खरीदने वालों के लिए यह अतिरिक्त लाभ है. यानी बिहार में पेट्रोल की कीमतें 8.20 रुपये घट गयीं, जबकि डीजल की कीमतों में 13.90 रुपये प्रति लीटर की कटौती हो चुकी है.

मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार ने भी दीपावली के दिन लोगों को बड़ी राहत दी. उन्होंने पेट्रोल एवं डीजल पर राज्य सरकार की ओर से लगाये जाने वाले मूल्यवर्द्धित कर (VAT) में 4 फीसदी की कटौती का एलान किया.

ठाणे में सहकर्मी ने की 18 साल के युवक की हत्या, फरार 

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने भी पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले VAT में कटौती करने की घोषणा की. उन्होंने कहा कि उपभोक्ताओं के लिए अरुणाचल में पेट्रोल 10.20 रुपये सस्ता हो चुका है, जबकि डीजल की कीमतों में 15.22 रुपये की गिरावट आयी है.

ओड़िशा में मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की सरकार ने भी पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले वैल्यू एडेड टैक्स (VAT) में कटौती की है. मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जानकारी दी गयी है कि 5 नवंबर की आधी रात के बाद से ओड़िशा में पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर उपभोक्ताओं को 3 रुपये की अतिरिक्त रियायत मिल जायेगी. यानी सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर 3 रुपये प्रति लीटर VAT घटा दिया है.

हरियाणा की मनोहरलाल खट्टर सरकार ने भी पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर अतिरिक्त राहत दी है. केंद्र सरकार की ओर से उत्पाद शुल्क में कटौती किये जाने के बाद राज्य सरकार ने VAT घटा दिया है. इस तरह पेट्रोल और डीजल अब हरियाणा में 12 रुपये प्रति लीटर सस्ता हो गये हैं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button