केंद्र सरकार ने पुडुचेरी में लगाया राष्ट्रपति शासन, नारायणसामी को 11 विधायकों का ही मिला था समर्थन

सरकार गिरने के बाद उम्मीद थी कि विपक्ष अपना दावा पेश करेगा लेकिन किया इनकार

नई दिल्ली:पुडुचेरी में बीते दिनों कांग्रेस की सरकार गिर जाने के बाद केंद्रीय कैबिनेट ने राष्ट्रपति शासन लगाए जाने के फैसले को मंजूरी दे दी। इस हफ्ते की शुरुआत में विश्वास मत हासिल न कर पाने के कारण कांग्रेस की नारायणसामी सरकार गिर गई थी।

सरकार गिरने के बाद उम्मीद थी कि विपक्ष अपना दावा पेश करेगा लेकिन मुख्य विपक्षी दल एआईएडीएमके ने सरकार बनाने से ये कहते हुए इनकार कर दिया कि जल्द ही चुनाव होने वाले हैं इसलिए वह चुनाव में उतरना पसंद करेगी। इसके बाद केंद्र ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने का फैसला किया है।

सोमवार 22 मार्च को राज्यपाल के निर्देशानुसार सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी को बहुमत साबित करना था लेकिन मुख्यमंत्री वी नारायणसामी नाकाम रहे थे। कांग्रेस के 9 विधायकों और डीएमके के 2 विधायकों को मिलाकर नारायणसामी के पास 11 विधायकों का ही समर्थन था। इसमें स्पीकर को जोड़ने के बाद भी यह संख्या 12 ही पहुंच रही थी जबकि वर्तमान स्थिति में बहुमत के लिए 14 सदस्यों की आवश्यकता है।

राज्यपाल ने सरकार के पास बहुमत नहीं होने की घोषणा की जिसके बाद नारायणसामी ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया था। इसके एक दिन बाद एआईएडीएमके ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार बनाने की संभावना से इनकार कर दिया। पार्टी ने कहा कि 10 दिन में चुनाव होने वाले हैं ऐसे में हम चुनाव में जाएंगे और लोकतांत्रिक तरीके से सरकार बनाएंगे।

cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button