केन्द्रीय संयुक्त सचिव ने हमर जंगल-हमर आजीविका के तहत चल रहे कार्यों को देखा

ग्रामीण महिलाओें से की बातचीत

नारायणपुर : केद्रीय संयुक्त सचिव एवं जिले के प्रभारी अधिकारी संदीप पोंडरिक ने शक्रवार को 23 मार्च को ओरछा विकासखण्ड के ग्राम कुरूषनार गए। वहां उन्होंने हमर जंगल – हमर आजीविका के तहत चल रहे कार्यों की प्रगति को देखा। पोंडरिक ने सड़क, भूमि समतलीकरण तालाब डबरी निर्माण इत्यादि को भी देखा। निर्माण कार्य में लगी श्रमिक महिलाओं से भी कार्य के तकनीकी के बारे में जानकारी ली। संयुक्त सचिव पोंडरिक ने कुरूषनार से लौटते वक्त गाड़ी रूकवाकर कुरूषनार उचित मूल्य की दुकान से राशन लेती हुई महिलाओं से बातचीत की।

उन्होंने मिलने वाले राशन की भी जानकारी ली और उनका हालचाल पूछा। महिलाओं ने अपनी स्थानीय बोली और सांकेतिक भाषा में सबकुछ ठीक-ठाक का इशारा किया। प्रभारी अधिकारी उचित मूल्य दुकान का अवलोकन भी किया। वे रामकृष्ण मिशन आश्रम भी गये। कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने जिला प्रभारी अधिकारी को बताया कि राज्य सरकार द्वारा हमर-हमर आजीविका अभियान के तहत वनांचल क्षेत्र में रहने वाले परिवार विशेषकर आदिवासी सामुदाय को उनके जीवन यापन हेतु वन भूमि पट्टा प्रदान किया गया है।

अधिकांश आदिवासी किसान इस भूमि पर वर्ष में एक बार मुश्किल से धान की फसल ले पाते है। राज्य सरकार उनकी आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए कटिबद्ध है। उनकी आय बढ़ाने एवं कृषि भमि को बहुफसली बनाने के उद्देश्य से योजना का संचालन कर रही है। हमर जंगल-हमर आजीविका अभियान के तहत विभिन्न योजनाओं के साथ वन अधिकार मान्यता प्राप्त हितग्राहियों लगभग 40-50 एकड़ कलस्टर में भूमि का चिन्हांकन कर वहां भूमि में तारफेंसिंग, डबरी तालाब निर्माण व ट्यूबवेल आदि कराकर भूमि का कृषि उत्पादन योग्य सुधार करवा रही है।

इसके लिए उद्यानिकी, कृषि, पशुपालन, मुर्गीपालन आदि का विभिन्न विभागों से समन्वय कर कार्रवाई की जा रही है। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ अशोक चौबे, एसडीएम दिनेश कुमार नाग, मुख्यमंत्री फैलो रमेश रेड्डी सहित अन्य जिला अधिकारी साथ थे।

advt
Back to top button