छत्तीसगढ़

भाजपा सरकार की निरंकुश प्रणाली ने किसानों को छलने का काम किया: कमलेश्वर पटेल

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय सचिव, छत्तीसगढ़ प्रभारी,

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय सचिव, छत्तीसगढ़ प्रभारी, विधायक कमलेश्वर पटेल ने कांग्रेस के मोर्चा प्रकोष्ठों की मैराथन बैठकों के दूसरे दिन कांग्रेस भवन में आदिवासी कांग्रेस, अनुसूचित जाति विभाग, अल्पसंख्यक विभाग, पिछड़ा वर्ग विभाग, किसान कांग्रेस की समीक्षा बैठक ली।

पार्टी कार्यालय में मीडिया से चर्चा करते हुये कमलेश्वर पटेल ने कहा कि, कांग्रेस कार्यकर्ताओं को जन-जन तक पहुंचकर सरकार के भ्रष्टाचार, किसानों के साथ किये गये वादा खिलाफी, गौसेवा के नाम पर भाजपाईयों द्वारा अनुदान राशि में कमीशनखोरी के चलते गौमाता की हत्या, अच्छे दिनों का वादा कर बढ़ती महंगाई आदि मुद्दों को लेकर आवाज बुलंद किया जायेगा। भ्रष्टाचार को चुनावी मुद्दा कहने के सवाल पर छ.ग. प्रभारी कमलेश्वर पटेल ने कहा कि यहां राशि का प्रायोजन वही हो रहा है जहां भ्रष्टाचार की गुंजाइश है।

इनके पास नैतिकता नहीं है, इसलिये ये कह रहे है कि इन पर लगे आरोप चुनावी है। प्रदेश में सूखे की स्थिति निर्मित है, किसान आत्महत्या कर रहे है और सरकार जश्न मना रही है। भाजपा की सरकार अपने घोषणा पत्र में किये गये वादों से मुकर गयी है। नान, धान, खदान में भ्रष्टाचार इस सरकार की पहचान बन चुकी है। वृद्धा पेंशन बंद कर दिया गया, गरीबी रेखा में निवासरत लोगों को लगातार छला जा रहा है, जनधन योजना के तहत खुले खातों पर भी टेक्स वसूला जा रहा है। प्रदेश में युवाओं को रोजगार देने में यह सरकार पूरी तरह विफल रही है, आउट सोर्सिंग के माध्यम से यह सरकार स्थानीय युवाओं का हक मार रही है, लगातार प्रदेश में महिलाओं के उत्पीड़न की घटनाएं बढ़ी है।

एन.सी.आर.बी. के आंकड़ों के मद्देनजर राज्य में महिला उत्पीड़न की घटनायें देश के शीर्ष चैथे स्थान पर है। प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधायें पूरी तरह जर्जर हो चुकी है। यह सरकार आरक्षण विरोधी है, दलितों, आदिवासी, ओबीसी वर्गो का पिछले 14 वर्षो से शोषण किया जा रहा है। कांग्रेस सभी वर्गो को साथ लेकर चलती है। हमारा उद्देश्य सर्वाहारा समाज के उत्थान और प्रगति समृद्धिशाली निर्माण का होता है, सत्ता हमारी प्राथमिकता नहीं है, हम लोगों को उनका हक दिलाना चाहते है और यही हमारा मुख्य लक्ष्य है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button