मतगणना स्थलों की होगी चाक चौबंद सुरक्षा, आईजी जीपी सिंह ने दिए निर्देश

दुर्ग।

छत्तीसगढ़ विधानसभा के नये विधायकों के निर्वाचन हेतु डाले गये मतों की गिनती दिनांक 11 दिसम्बर 2018 को सभी जिला मुख्यालयों में बनाए गए मतगणना केन्द्रों में होगी।

जहां राजनीतिक दलो के प्रत्याशियों एवं उनके एजेंट, मतगणना कार्य में लगे कर्मचारियों के अलावा बडी संख्या में आम जनता की भीड़ रहेगी। इस मौके पर मतगणना केन्द्र के अंदर एवं बाहर कानून व्यवस्था सुनिश्चित करना पुलिस के लिये चुनौतीपुर्ण होगा।

जिसे दृष्टिगत रखते हुए दुर्ग रेंज के पुलिस महानिरीक्षक जीपी सिंह ने रेंज के सभी पुलिस अधीक्षकों को Access Control एवं Positive Identification के सिद्धान्त को ध्यान में रखते हुए पुख्ता पुलिस बंदोबस्त सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं।

सुनिश्चित करने के निर्देश दिए

मतगणना स्थल की ओर जाने वाले सभी मार्गों पर पर्याप्त संख्या में बल लगाया जावे, मजबूत बेरीकेट्स तथा ड्राॅपगेट की व्यवस्था सुनिश्चित की जावे। मतगणना स्थल एवं आस-पास लगातार पेट्रोलिंग की कार्यवाही सुनिश्चित की जाये। आवश्यकतानुसार डायवर्सन प्वाईन्ट एवं मतगणना स्थल हेतु Entry & Exit की अलग-अलग व्यवस्था बनायी जावे।

मतगणना स्थल के अंदर केवल पासधारी व्यक्तियों को ही प्रवेश दिया जाएगा । मतगणना कार्य में लगे शासकीय सेवकों के अलावा प्रत्याशियों एवं एजेण्टों के लिये भी अलग-अलग तरह के प्रवेश पत्र की व्यवस्था की जावे, ताकि किसी तरह की भ्रांति न रहे।

मतगणना केन्द्र के अंदर प्रवेश करने वाले प्रत्येक पासधारी व्यक्ति की डी.एफ.एम.डी. एवं एच.एच.एम.डी. से पूरी तरह चेकिंग उपरांत ही अंदर प्रवेश करने की व्यवस्था सुनिश्चित करें। चेकिंग के दौरान सुनिश्चित कर लिया जावे कि चुनाव आयोग के दिशा निर्देशों के अनुरूप उसके पास कोई प्रतिबंधित अथवा आपत्तिजनक सामग्री न हो। नशे की हालत में किसी भी व्यक्ति को, चाहे वह पासधारी ही क्यों न हो, प्रवेश नहीं दिया जाएगा। महिलाओं की चेकिंग हेतु पृथक व्यवस्था रखी जावे तथा चेकिंग/फ्रिस्किंग महिला बल से कराया जावे।

मतगणना स्थल के आसपास उपयुक्त स्थलों पर पार्किंग की व्यवस्था करावें, जहां केवल पासधारी वाहनों को चेकिंग उपरांत ही प्रवेश दिया जाएगा।

मतगणना स्थल पर किन-किन वस्तुओं को प्रतिबंधित किया गया है, कौन-कौन कहां जायेगा, रूट क्या रहेगा, ट्रैफिक, पार्किग आदि की क्या व्यवस्था लगायी गई है इसकी जानकारी मीडिया के माध्यम से दी जाए, ताकि आम जनता व राजनीतिक दलों के प्रत्याशियों एवं एजेण्टों तथा मतगणना कार्य में लगे सरकारी अमले को इसकी जानकारी रहे।

विजय जुलूस हेतु प्रत्येक विधानसभा के लिये पृथक-पृथक पार्टी पर्याप्त बल एवं वाहन आदि के साथ मतगणना स्थल के बाहर तैयार रखी जाये जो जूलूस निकलने की स्थिति में जुलूस के साथ रहकर कानून व्यवस्था सुनिश्चित करेगा।

कलेक्टर से समन्वय कर महत्वपूर्ण प्वाईन्टस् पर कार्यपालक दण्डाधिकारी की नियुक्ति कराई जावे।

कानून व्यवस्था ड्यिूटी एवं अन्य आकस्मिक व्यवस्थाओं के लिए पुलिस नियंत्रण कक्ष/पुलिस लाईन में रिजर्व बल, बलवा ड्रिल के साथ रखी जावे।

advt
Back to top button