चैम्पियंस ट्राफी हॉकी टूर्नामेंट – भारत ने अर्जेंटीना को 2-1 से हराया

ब्रेडा : भारत ने ओलंपिक चैम्पियन अर्जेंटीना को 2-1 से हराकर चैम्पियंस ट्राफी हॉकी टूर्नामेंट में में लगातार दूसरी जीत दर्ज की। चैम्पियंस ट्राफी का यह 37वां और आखिरी आयोजन है। भारत ने दोनों गोल दूसरे क्वार्टर में किए। हरमनप्रीत सिंह ने 17वें मिनट में पेनल्टी कार्नर पर गोल कर टीम का खाता खोला जबकि मनदीप सिंह ने 28वें मिनट में गोल दागकर इस बढ़त को दोगुना कर दिया।

विश्व रैंकिंग में दूसरे स्थान पर काबिज अर्जेंटीना के लिए ड्रैगफ्लिकर गोंजालो पेइलाट ने 30 वें मिनट में एकमात्र गोल किया। अपने पहले चैम्पियन ट्राफी खिताब का सपना देख रहे भारत ने कल चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 4-0 से रौंदा था। छह देशों के इस टूर्नामेंट की तालिका में भारतीय टीम दो मैचों में दो जीत के साथशीर्ष पर है। आठ बार की ओलंपिक चैम्पियन भारत का टूर्नामेंट में अगला मुकाबला विश्व चैम्पियन ऑस्ट्रेलिया से 27 जून को हैै। टीम के नए मुख्य कोच हरेंद्र सिंह अपने चौथे कार्यकाल की इससे बेहतर शुरुआत की कल्पना शायद ही कर रहे हों।

राष्ट्रमंडल खेलों में भारत के खराब प्रदर्शन के बाद शोर्ड मारिन की जगह हरेन्द्र को कोच बनाया गया था। राष्ट्रमंडल खेलों में चौथे स्थान पर रहने वाली भारतीय टीम ने इस मैच की शुरूआत से ही अपने इरादे जाहिर कर दिये थे। टीम ने अपने खेल को वहीं से आगे बढ़ाया जहां पाकिस्तान के खिलाफ उसने मैच छोड़ा था। पिछले कुछ समय से कमजोर साबित हो रही भारतीय रक्षापंक्ति ने एक बार फिर शानदार खेल दिखाया जबकि फारवर्ड पंक्ति में रमनदीप सिंह की कमी के बावजूद टीम मजबूत दिखी। रमदीप सिंह का घुटना कल चोटिल हो गया था। अपना 300 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल रहे सरदार सिंह ने मध्यपंक्ति में खेल को नियंत्रित करने के साथ फारवर्ड पंक्ति के साथ अच्छे से तालमेल बैठाया।

मैच के 17 वें मिनट में टीम को जब पेनल्टी कर्नर मिली तो हरमनप्रीत का ड्रैग फ्लिक पर गेंद अर्जेंटीना के गोलकीपर तोमास सैंटियागो के पैरों के बीच से निकल गयी। मध्यांतर से दो मिनट पहले टीम ने अपनी बढ़त को 2-0 कर लिया। दिलप्रीत ने गेंद पर शानदार नियंत्रण कर मौका बनाया जिस पर मनदीप ने गोल दाग दिया। हालांकि इसके दो मिनट बाद अर्जेंटीना ने भी गोलकर बढ़त को कम कर दिया। पेनल्टी कार्नर पर पेइलाट के तेज शाट को भारतीय गोलकीपर पीआर श्रीजेश नहीं रोक सके।

मध्यांतर कुछ सेकेन्ड पहले भारतीय टीम को एक और पेनल्टी कार्नर मिला लेकिन हरमनप्रीत इसे गोल में नहीं बदल सके। मध्यांतर के बाद अर्जेंटीना के हमले करना तेज किया और टीम ने पांचवा पेनल्टी कार्नर हासिल किया लेकिन वे भारतीय रक्षापंक्ति को नहीं भेद सके। इसके कुछ मिनट बाद दिलप्रीत और मनदीप के हमले को सैंटियागो ने नाकाम कर दिया। अंतिम क्वार्टर में वरूण कुमार ने अर्जेंटीना के लुकास विला के शाट को शानदार तरीके से नाकाम कर उन्हें मैच ड्रा करने से रोक दिया।

Back to top button