छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ में मध्य और उत्तरी के कुछ जगहों पर भारी वर्षा की संभावना

19 अगस्त से उत्तरी बंगाल की खाड़ी में एक नया कम दबाव का क्षेत्र निर्मित

रायपुर: छत्तीसगढ़ में मध्य और उत्तरी के कुछ जगहों पर भारी वर्षा यानी 24 घंटे के दौरान 65.5 से 115.5 मिमी के बीच बारिश हो सकती है लेकिन 19 अगस्त से उत्तरी बंगाल की खाड़ी में एक नया कम दबाव का क्षेत्र निर्मित हो रहा है। यह अगले 24 घंटे में तेजी से तैयार होगा, जिससे छत्तीसगढ़ में अगले दो-तीन दिनों तक भारी से अतिभारी बारिश की स्थितियां निर्मित होंगी। कम दबाव का क्षेत्र आगे बढऩे की वजह से राज्य में बारिश कुछ कम हुई है।

भोपालपट्टनम में रविवार को 318 मिमी बारिश हुई थी। यहां सोमवार को महज 99 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई। बस्तर में हालात अभी भी खतरे में बने हुए हैं। उसूर और बीजापुर के कई हिस्सों में पानी काफी ज्यादा है। इंद्रावती नदी का जलस्तर सोमवार को बढ़कर 13.130 मीटर तक पहुंच गया है। एक दिन में नदी का जलस्तर एक मीटर बढ़ गया। अगले कुछ दिनों में जलस्तर में और वृद्धि हो सकती है। इसके साथ ही ज्यादा बारिश की स्थिति अब बस्तर से आगे बढ़कर उत्तरी छत्तीसगढ़ की तरफ बढ़ गई है।

बीजापुर में 87 मकान ढहे, 66 लोगों को किया रेस्क्यू,:

बीजापुर जिले में दूसरे दिन भी मूसलाधार बारिश होने से पूरा जिला जलमग्न हो गया है। कई जगहों में लोगों के घर डूब गए हैं। भारी बारिश से जिले में करीब 87 मकान ढह गए हैं। कई जगहों पर सड़क संपर्क टूट गया है। सोमवार को 66 बाढ़ प्रभावितों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। अभी रेस्क्यू जारी है।

बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा क्षेत्रीय विधायक विक्रम मंडावी लगातार कर रहे हैं। बीजापुर के विभिन्न क्षेत्रों में 80 मवेशी के भी मारे जाने की खबर है। कोंटा में रविवार तक शबरी नदी का जलस्तर 13 मीटर के करीब स्थिर हो गया था, जो सोमवार को बढ़ता हुआ 15.140 मीटर तक पहुंच गया है, जबकि खतरे का पहला निशान 13 मीटर है।

बाढ़ से पूरा कोंटा का संपर्क जिला मुख्यालय समेत ओडिशा और आंध्रप्रदेश-तेलंगाना कट गया है। दोरनापाल नगर पंचायत में बारिश के कारण 3 मकान ढह गए हैं। इनमें कोई हताहत होने की जानकारी नहीं है। अचानक पानी भरता देख नगर पंचायत के कर्मचारियों ने 7 से ज्यादा मकानों को खाली करवा दिया। सोमवार को बस्तर जिले में 16.3, कोंडागांव 24.6, कांकेर 14.5, नारायणपुर 16.5, दंतेवाड़ा 40.8, सुकमा 31.5, बीजापुर 27.4 मिमी बारिश हुई।

खतरे के निशान से ऊपर बह रही शबरी नदी :

कोंटा से होकर बहने वाली शबरी और भद्राचलम से होकर बहने वाली गोदावरी नदी अब विकराल रूप लेती चली जा रही हैं। कोंटा और आंध्रप्रदेश के चट्?टी के बीच वीरापुरम में पानी सड़क से करीब 5 फीट ऊपर से बह रहा है।

छत्तीसगढ़-आंध्र सीमा पर नाले में पानी आ जाने से नगर में करीब 50 मीटर तक पानी भर गया है। इंजरम के पास एनएच 30 पर पुल के ऊपर से पानी बहने से आवाजाही ठप है। कोंटा में 5 साल के बच्चे में कोरोना के लक्षण मिलने पर एसडीआरएफ टीम ने नाला पार कराया।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button