राष्ट्रीय

दिल्ली में फिर चला सीलिंग का चाबुक

दहशत में जी रहे फैक्टरी मालिक और कामगार

नई दिल्ली : दिल्ली में सीलिंग का डर एक बार फिर से व्यापारियों को सताने लगा है और इस बार गाज गिरी है इंडस्ट्रियल एरिया पर. बुराड़ी से लेकर दिल्ली के छोटे-बड़े औद्योगिक क्षेत्र सीलिंग से परेशान है.

दिल्ली के त्रिनगर इलाके में भी बीते 6 तारीख को 25 से 30 फैक्ट्रियों को सील किया गया है, जिसके बाद दूसरे फैक्ट्री मालिक और कामगार दहशत में जी रहे हैं.

दरअसल, दिल्ली का त्रिनगर इलाका राजधानी के मास्टरप्लान में रिहाइशी और इंडस्ट्री दोनों के मिक्स्ड लैंड यूज के तहत आता है लेकिन दिल्ली के दूसरे बड़े बाजारों की तरह यहां भी लोगों ने मनमाने तरीके से फैक्ट्रियां खोल रखी हैं और सालों से लोग अपने-अपने मकान छोटी-बड़ी फैक्ट्री मालिकों को किराए पर देकर गुजर बसर कर रहे है.

कई बार यहां से फैक्ट्रियों को कहीं और शिफ्ट करने की हवाई बातें भी होती रही है पर कोई ठोस रास्ता न तो प्रशासनिक अमला निकाल पाया है ना ही यहां के लोग.

अब इस इलाके में फैक्ट्रियों के सील होने से मकान मालिक और फैक्ट्री मालिक दोनों ही परेशान हैं. फैक्ट्रियों पर ताला लगने से उनमें काम करने वाले कामगार भी बेरोजगार हो गए हैं, इनमें से ज्यादातर काम करने वाले बिहार और दूसरे राज्यों के लोग हैं जो कि रोजी-रोटी की तलाश में यहां सालों पहले आ बसे हैं. अब बेबसी का आलम यह है कि न तो काम रहा और न सिर छुपाने की जगह ये कामगार अब सड़क पर इस आस में रात बिता रहे हैं कि जल्द ही फैक्ट्रियां सील कर दी जाएंगी और इनकी जिंदगियां वापस पटरी पर लौट आएगी.

इन सब मुश्किलों का बीच राजनैतिक पार्टियां अपनी-अपनी रोटी सेंकने में लगी हुई है. आए दिन इस इलाके में कांग्रेस पार्टी के ब्लॉक अध्यक्ष सभाएं और धरने पर बैठ रहे हैं. बीच मंझधार में फंसे फैक्ट्री मालिक और कामगार अब कांग्रेस पार्टी से आस लगा कर बैठे हैं.

ऐसे समय पर इन लोगों को राजनैतिक कंधा कितना काम आता है ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा पर मौजूदा परिस्थितियों को देखकर साफ लगता है कि फैक्ट्री मालिकों की परेशानियां अभी और भी बढ़ेंगी.

Tags