छत्तीसगढ़ ने फिर साबित की अपनी श्रेष्ठता, 12 कृषि विज्ञान केन्द्रों को ‘ए’ और 8 को ‘बी’ ग्रेड

रायपुर. छत्तीसगढ़ ने एक बार फिर राष्ट्रीय स्तर पर अपनी श्रेष्ठता साबित की है। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद नई दिल्ली द्वारा हाल ही में देश भर में संचालित 625 कृषि विज्ञान केन्द्रों की उनके काम-काज के मूल्यांकन के आधार पर जारी ताजा रेटिंग सूची में छत्तीसगढ़ के 12 कृषि विज्ञान केन्द्रांे को ‘ए’ श्रेणी में और 8 कृषि विज्ञान केन्द्रों को ‘बी’ श्रेणी में रखा गया है। ‘सी’ और ‘डी’ श्रेणी में छत्तीसगढ़ का कोई भी कृषि विज्ञान केन्द्र नहीं है। इस सूची में 12वीं पंचवर्षीय योजना तक शुरू किये गये कृषि विज्ञान केन्द्रों को ही शामिल किया गया है।

उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ में संचालित 27 कृषि विज्ञान केन्द्रों का संचालन इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर द्वारा किया जा रहा है। इनमें से छः कृषि विज्ञान केन्द्र तेरहवीं पंचवर्षीय योजना के तहत खोले गए हैं जिन्हें इस सूची में शामिल नहीं किया गया है।

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा जारी रेटिंग में छत्तीसगढ़ के 12 कृषि विज्ञान केन्द्रों को ‘ए’ और 8 को ‘बी’ ग्रेड

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आई.सी.ए.आर.) नई दिल्ली द्वारा जारी कृषि विज्ञान केन्द्रों की रेटिंग सूची में छत्तीसगढ़ के बलरामपुर, बस्तर, दंतेवाड़ा, धमतरी, जांजगीर-चांपा, कबीरधाम, कोरिया, नारायणपुर, रायगढ़, राजनांदगांव, सूरजपुर और कांकेर कृषि विज्ञान केन्द्रांे को ‘ए’ श्रेणी में रखा गया है जबकि भाटापारा-बलौदाबाजार, बीजापुर, बिलासपुर, दुर्ग, गरियाबंद, जशपुर, कोरबा और महासमंुद कृषि विज्ञान केन्द्रों को ‘बी’ श्रेणी में रखा गया है।

उल्लेखनीय है कि कृषि विज्ञान केन्द्रांे की यह रेटिंग उनके द्वारा पिछले पांच वर्षों में किये गए कार्याें के मूल्यांकन के आधार पर जारी की जाती है। इनके मूल्यांकन में अधोसंरचना पर 15 प्रतिशत अंक, तकनीकी आंकलन प्रसार एवं प्रशिक्षण पर 35 प्रतिशत अंक, मुख्य गतिविधियों के प्रभाव पर 30 प्रतिशत अंक तथा सहायक गतिविधियों एवं पुरस्कारों पर 20 प्रतिशत अंक रखे गये हैंै।

कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा किये गए मूल्यांकन में 76 से 100 प्रतिशत अंक पाने वाले कृषि विज्ञान केन्द्रों को ‘ए’ श्रेणी में, 51 से 75 प्रतिशत अंक पाने वाले कृषि विज्ञान केन्द्रों को ‘बी’ श्रेणी में, 26 से 50 प्रतिशत अंक पाने वाले कृषि विज्ञान केन्द्रों को ‘सी’ श्रेणी में और 0 से 25 प्रतिशत अंक पाने वाले कृषि विज्ञान केन्द्रों को ‘डी’ श्रेणी में रखा गया है। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डाॅ. एस.के. पाटील ने ताजा रेटिंग में ‘ए’ एवं ‘बी’ श्रेणी में स्थान प्राप्त करने वाले कृषि विज्ञान केन्द्रों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं।

(संजय नैयर)
सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी

Back to top button