छत्तीसगढ़ बन गया मौत का गढ़ – निर्मलकर

रायपुर : जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश महासचिव सूरज निर्मलकर ने कहा बस्तर से लेकर सरगुजा तक और महासमुंद से लेकर कवर्धा तक पूरा छत्तीसगढ़ असुरक्षित है हर व्यक्ति को जान का खतरा है, छत्तीसगढ़ में कब, कहाँ, कौन सी आफत और आपदा आ जायेगी इसकी कोई गारंटी नहीं है। आगे निर्मलकर ने कहा कभी प्रदेश में नक्सलवाद को प्रमुख समस्या के रूप में जानते थे लेकिन बीते 15 साल में भाजपा राज के लेखा जोखा को देखा जाए तो चारों ओर हाहाकार हैं।

जिस छत्तीसगढ़ को देश मे शांति का टापू कहा जाता था और देश भर के लोगों को यहां आने में शकुन मिलता उस छत्तीसगढ़ में अब लोगों का आना तो दूर छत्तीसगढ़ के लोग ही सुरक्षित शहर की रुख कर रहे है। कल तक गरीबी के नाम पर पलायन करते थे अब जान बचाने लोग पलायन कर रहे है। छत्तीसगढ़ की सरकार 15 सालों में विकास से कोसों दूर आम जनता को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करने में असफल रही जिसके कारण लगातार लोगों की मौत हो रही है।

डेंगू से मौत, पीने योग्य पानी नहीं मिलने से मौत, शराब के कारण मौत, गरीबी के कारण किसानों का मौत, बेरोजगारी के कारण युवाओ का मौत, गर्भावस्था कांड में महिलाओं की मौत, आँख फोड़वा कांड में मौत, अमृत दूध कांड में बच्चों की मौत, कुत्तों के कारण मौत, सर्पदंश से मौत आक्सीजन की कमी से मौत, नक्सलियों के कारण मौत। बीते 15 साल में छत्तीसगढ़ का बजट बढ़ गया लेकिन आम आदमी की जेब में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई , महंगाई आसमान को छू रही है इसके ठीक विपरीत जोगी के 3 साल के कार्यकाल को जनता आज भी याद कर रही है जब चारों ओर शांति ही शांति था.

छोटे से लेकर बड़े गुंडे भूमिगत हो गए थे अपराध नाम की कोई चीज नहीं थी। छत्तीसगढ़ को जोगी जी ने विकास का एक मॉडल के रूप में तैयार किया था उसकी आधारशिला रखी थी जिसपर वर्तमान सरकार आज भी काम कर रही जिनके पास नया कुछ भी नही है, न कोई सही नीति और न ही नियत है। छत्तीसगढ़ की जनता ने भाजपा को तीन बार मौका देने के बाद भी जनता के विश्वास में खरा नहीं उतरी, जिस कारण जनता ने मन बना ली है जब जोगी जी की ताजपोशी करेंगे और जोगी राज फिर से लाएंगे तभी छत्तीसगढ़ खुशहाल राज्य बन सकेगा छत्तीसगढ़ फिर से बनेगा शांति का टापू।

Back to top button