छत्तीसगढ़मनोरंजन

बॉलीवुड एक्टर अमिताभ बच्चन को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दिया इंटरव्यू

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अब लॉकडाउन के पक्ष में नहीं

रायपुर: एक निजी न्यूज़ चैनल के कार्यक्रम में बॉलीवुड एक्टर अमिताभ बच्चन ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से पूछा कि लॉकडाउन खुलने के बाद छत्तीसगढ़ में 300 फीसदी कोरोना के मरीज बढ़े हैं। इसका कारण क्या है?

इस पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया कि लॉकडाउन के समय सरकार ने कई कदम उठाए। राज्य की सीमाएं सील की गई, जो विदेशों से आए उनकी पहचान की। इससे संक्रमित 3 फीसदी पर ले आए।

छत्तीसगढ़ की सीमा 7 राज्यों से जुड़ी

बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की सीमा 7 राज्यों से जुड़ी हुई है। बहुत बड़ा इलाका नक्सल से प्रभावित है। लॉकडाउन खुलने के बाद बाहर से लोग आए। ट्रेन, बस और फ्लाइट शुरू हुई। जवान भी लौटे। इससे संक्रमण बढ़ा। हालांकि वे अब लॉकडाउन के पक्ष में नहीं हैं। कहा कि लोग अस्पताल में अकेला महसूस करते हैं। परिजन भी मरीजों से मिल नहीं सकते।

मुख्यमंत्री ने बताया कि इसे देखते हुए होम आइसोलेशन की शुरुआत की है। इसका लाभ लोग ले रहे हैं। जिन लोगों को पहले से कोई बीमारी नहीं है, वे परिवार के साथ रहकर स्वस्थ हो रहे हैं। इनकी बड़ी संख्या है। हम घर-घर दवाइयां बांट रहे हैं। कॉल सेंटर के जरिए डॉक्टर लगातार संपर्क में हैं। उनको सही सुझाव दे रहे हैं। हमारे यहां संक्रमित की संख्या 31 हजार है।

छत्तीसगढ़ के स्वच्छता अभियान सफलता को लेकर सवाल

इसके बाद अमिताभ बच्चन ने छत्तीसगढ़ के स्वच्छता अभियान सफलता को लेकर सवाल किया। इस पर मुख्यमंत्री ने बताया कि स्वच्छता, स्वास्थ्य और पर्यावरण तीनों एक साथ जुड़े हैं। छत्तीसगढ़ में 10 हजार महिला समूह लगातार काम कर रही हैं। हम 16 हजार टन कचरे का रोज निपटारा करते हैं।

इसी सफाई व्यवस्था के चलते देश में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। उन्होंने बताया कि स्वच्छता के लिए नरवा, गरवा, घुरवा व बाड़ी, गोधन और स्वच्छ दीक्षा योजना शुरू की है। दीक्षा योजना के तहत कई राज्य और नेपाल व भूटान की टीम ने भी प्रशिक्षण लिया है।

अब तक 11 लाख क्विंटल गोबर एकत्र

मुख्यमंत्री ने कहा, पेट्रोल-डीजल के अनावश्यक खर्च को बचाने के लिए ई-रिक्शा से कचरे का परिवहन किया जा रहा है। अब तक 11 लाख क्विंटल गोबर एकत्र किया गया और 20 लाख की राशि का भुगतान हुआ है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में 44 % जंगल है। देश को ऑक्सीजन देने में इसका 17 फीसदी योगदान है। पौधरोपण में फलदार पेड़ों को बढ़ावा दे रहे हैं। इससे ग्रामीण क्षेत्रों में आय के साधन मिलेगा। पहले राज्य में 37.7 प्रतिशत (5 लाख) बच्चे कुपोषित थे। पिछले साल गांधी जयंती पर सुपोषण योजना की शुरुआत की। इससे 68 हजार बच्चे बाहर आ गए। हाट बाजार क्लीनिक योजना शुरू की है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button