छत्तीसगढ़

नियमितीकरण की मांग पर छत्तीसगढ़िया व्याख्याताओं में हर्ष व्याप्त

टी एस बाबा से तपस्या में की सौजन्य मुलाकात तथा नव वर्ष की बधाई दी

रायपुर: अतिथि व्याख्याता समूह छत्तीसगढ़ ने आज पंचायत एवं ग्रामीण विकास, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री टीएस सिंहदेव से तपस्या में की सौजन्य मुलाकात तथा नव वर्ष की बधाई दी।

व्याख्याताओं ने आज नियमितिकरण की मांग भी रखी जिसपर उन्होंने अपना कथन दोहराया कि किसी भी अनियमित दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी को अब नौकरी से नही निकाला जाएगा तथा उन्हें नियमित करने की कार्रवाई की जाएगी.

व्याख्याताओं ने कहा कि जब मेडिकल कॉलेज के संविदा डाक्टरों को लोक सेवा आयोग परीक्षा की जगह स्वशासी समिति के माध्यम से नियमित किया जा सकता है तो अनियमित एवं सीलिंग के अधीन दैनिक वेतनभोगी अतिथि व्याख्याताओं को भी नियमितीकरण का लाभ मिलना ही चाहिए।

लगातार छले गए अतिथि व्याख्याताओं ने नवनिर्वाचित सरकार के समक्ष स्वशासी समिति अथवा किसी अन्य व्यवस्था द्वारा नियमितीकरण की मांग रखी है।

दैनिक वेतन प्राप्त करने वाले व्याख्याताओं को 20,800 की मासिक सीलिंग

अतिथि व्याख्याता संविदा पद नहीं है तथा अनियमित या 800 रूपए अधिकतम दैनिक वेतन प्राप्त करने वाले व्याख्याताओं को 20,800 की मासिक सीलिंग के अधीन रखा गया है, जो कि उन्हें किसी भी माह नहीं मिला है।

पूर्व सरकार के समक्ष व्याख्याताओं ने अपनी मांग चरणबद्ध तरीके से रखी थी जिसपर सभी को सौतेले व्यवहार का सामना करना पड़ा था। लामबंद हुए व्याख्याताओं ने सत्तादल का प्रत्यक्ष विरोध भी किया था।

घोषणा पत्र के अनुसार दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को नियमितीकरण का लाभ मिलना है। ऐसे में तृतीय श्रेणी के समान दैनिक वेतन प्राप्त अतिथि व्याख्याताओं को उम्मीद मिली है। इन अतिथि व्याख्याताओं ने लगातार उच्च शिक्षा और छत्तीसगढ़िया युवाओं के भविष्य का भार कंधों पर सफलतापूर्वक उठाया है.

अतिथि व्याख्याताओं द्वारा अध्यापित छात्रों की अंक तालिकाएं इसका प्रत्यक्ष प्रमाण रही है। जिसे वार्षिक प्रतिवेदन में भी देखा जा सकता है। नियमितीकरण की जगह भर्ती प्रक्रिया में उलझाना छत्तीसगढ़िया व्याख्याताओं के साथ छल होगा।

कुछ व्यख्याता इस पड़ाव पर है कि उन्हें परीक्षा में शामिल होने की अनुमति नहीं मिलेगी। वहीं अनुभव प्राप्त व्याख्याताओं के द्वारा दिए गए परीक्षा परिणाम भी बहुत अच्छे रहे हैं। ऐसे में अतिथि व्याख्याताओं को नियमितीकरण का लाभ देना ही चाहिए।

बाबा के सकारात्मक सहयोग से समस्त अतिथि व्याख्याता में हर्ष व्याप्त

समूह के द्वारा संभाग स्तरीय टुकड़ियों में माननीय मुख्यमंत्री बघेल जी से वर्तमान में कार्यरत अतिथियों के नियमितीकरण एवं अन्य बाकी रिक्त पदों पर भर्ती परीक्षा लेने की मांग भी की गई है। अब तक 26 विधायक एवं 6 मंत्रीयों ने सकारात्मक आश्वासन दिया है।

5 संभाग के 27 जिलों में कार्यरत अनियमित, दैनिक वेतनभोगी अतिथि व्याख्याताओं के प्रतिनिधित्व स्वरूप सरगुजा संभाग के सभी अतिथि व्याख्याताओं ने महाराज सरगुजा की सरल एवं प्रभावशाली सहयोग हेतु आभार व्यक्त किया है।

समूह ने प्रथम विधानसभा सत्र में प्रमुख रूप से टी एस बाबा, एवं 24 विधायक एवं 6 मंत्री के नियमितीकरण के आश्वासन के प्रति हृदय से आभार जताया है।
पत्र व्यवहार से नियमितीकरण की मांग हेतु कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष से भी हस्तक्षेप की मांग की गई है।

कार्यक्रम में प्रमुख रूप से भानु प्रताप आहिरे, महेश गुप्ता, रौशन कश्यप, अंकुश सिसौदिया, पूजा द्विवेदी, शिल्पा तिवारी, गौरव गोयल, नम्रता मिश्रा, शिल्पी एक्का, नम्रता मिश्रा, संजीव कुशवाहा, अभीजीत मिंज, तथा सैंकड़ों की संख्या में सरगुजा विश्वविद्यालय के संबंधित 50 से अधिक महाविद्यालयों के अतिथि व्याख्यातागण मौजूद थे।

Summary
Review Date
Reviewed Item
नियमितीकरण की मांग पर छत्तीसगढ़िया व्याख्याताओं में हर्ष व्याप्त
Author Rating
51star1star1star1star1star
congress cg advertisement congress cg advertisement
Tags
Back to top button