छत्तीसगढ़ बढ़ते अपराध: रायपुर में मंत्रालय में नौकरी लगाने के नाम पर महिला से गैंगरेप

रायपुर. देश में रेप की घटना दिन-ब-दिन बढ़ती ही जा रही है। रोजाना देश के अलग-अलग राज्यों से दुष्कर्म की खबरें सामने आ रही है। ताजा मामला छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर का है, जहां मंत्रालय में नौकरी लगवाने के नाम पर शादीशुदा महिला से गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया है।

महिला की शिकायत पर मुजगहन थाना में आरोपियों के खिलाफ FIR दर्ज कर ली गई है। पुलिस ने दर्ज शिकायत के आधार पर अज्ञात आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है। पुलिस ने बताया कि पीड़िता को मंत्रालय में नौकरी दिलाने का झांसा दिया गया था। पीड़िता 10 वीं पास है।

पुलिस ने बताया कि महिला शादीशुदा है और गरीब है। उसे मंत्रालय में नौकरी दिलाने का कुछ लोगों ने झांसा दिया। पीड़िता को सरकारी नौकरी मिलने की आस जाग गई और वह आरोपियों की चाल को नहीं समझ पाई। बताया जा रहा है कि आरोपियों ने उसे मंत्रालय में नौकरी लगाने की झांसा दिया और सुनसान इलाके में ले जाकर पहले सामूहिक दुष्कर्म किया। यह सिलसिला कई बार चला। महिला ने बताया कि उसके पास मोबाइल नहीं है।

जानकारी मिलने पर वो संतोषी नगर स्थित ब्रिज के पास युवकों से मिलती थी, जहां से महिला को कार में बैठकर वो सेजबहार की ओर सुनसान जगह पर ले जाते थे और गैंगरेप की वारदात को अंजाम देते थे। फिलहाल आरोपियों की पहचान नहीं हो पाई है। पुलिस घटनास्थल के आस-पास लगे CCTV कैमरे की फुटेज खंगाल रही है।
लगातार बढ़ रहे दुष्कर्म के मामले

बता दें कि देश में दुष्कर्म की घटनाएं लगातार बढ़ती ही जा रही है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) की ओर से जारी किए आंकड़ों के मुताबिक भारत में 2019 में हर दिन बलात्कार के 88 मामले दर्ज किए गए। साल 2019 में देश में बलात्कार के कुल 32 हजार 033 मामले दर्ज किए गए, जिनमें से 11 फीसदी पीड़ित दलित समुदाय से हैं। NCRB की रिपोर्ट के मुताबिक सबसे ज्यादा बलात्कार के मामले राजस्थान और उत्तर प्रदेश से दर्ज हुए।

2019 में राजस्थान में करीब 6,000 और उत्तर प्रदेश में 3,065 बलात्कार के मामले सामने आए। NCRB के आंकड़ों से पता चलता है कि बीते 10 सालों में महिलाओं के बलात्कार का खतरा 44 फीसदी तक बढ़ गया है। संस्था के आंकड़ों के मुताबिक 2010 से 2019 के बीच पूरे भारत में कुल 3 लाख 13 हजार 289 दुष्कर्म के मामले दर्ज हुए हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button