छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़: रायपुर के युवा बदल रहे समाज की दिशा, जरूरतमंद परिवार को दिया सहारा

इनकी पहल से गमगीन माहौल में जरूरतमंद परिवार को सहारा देने के लिए लोगों के हाथ उठ रहे हैं।

सही मानसिकता और क्षमता के साथ युवा समाज के विकास में योगदान दे सकते हैं। समाज के लिए सबसे ऊर्जावान बनकर अपनी छाप छोड़ सकते हैं। युवा पीढ़ी की एक सोच मात्र से ही समाज की दिशा बदल जाती है। यही कर रहे हैं रायपुर के युवा।

जय बूढ़ी मां गा़ंडा महासभा के युवाओं ने पुरानी कुरीतियों को दूर कर सामाजिक स्तर सुधारने के लिए सराहनीय कदम उठाया है।

इनकी पहल से गमगीन माहौल में जरूरतमंद परिवार को सहारा देने के लिए लोगों के हाथ उठ रहे हैं।

महासभा के युवाओं ने तय किया है कि उनके समाज में किसी का निधन हो तो शव पर कफन डालने के बजाय कफन की राशि इकट्ठा कर पीड़ित परिवार को दे दी जाए।

युवा विंग के अध्यक्ष वैष्णव भत्रिया का मानना है कि शव को ओढ़ाया जाने वाले कफन श्मशान में चिता के साथ जलकर खत्म हो जाता है।

उसका कुछ इस्तेमाल नहीं होता इसलिए युवाओं ने निर्णय लिया कि यह परंपरा निभाने से अच्छा है कि कफन की राशि ही इकट्ठी कर ली जाए।

वैष्णव के साथ महासभा के उपाध्यक्ष त्रिनाथ जगत, राधे नायक, जीतू सागर, श्याम सिक्का, प्रदीप क्षत्रिया और दर्जनभर युवा इसमें अहम भूमिका निभा रहे हैं।

तीन महीने में 140 मोहल्लों में जागरूकता

गांड़ा महासभा के बैनर तले वैष्णव और उनके साथियों ने तीन महीने के अंदर रायपुर जिले के करीब 140 मोहल्लों में समाज के लोगों के बैठक ली।

कफन खरीदने की जगह उतनी राशि की आर्थिक मदद पीड़ित परिवार को करने की अपील की। उन्होंने अपने साथ हजारों युवाओं को जोड़ने का भी लक्ष्य रखा है।

पांच से दस हजार रुपये तक की मदद मिली

चार बार युवाओं ने श्मशानघाट के पास जाकर लोगों की सोच बदली। कफन न खरीदकर राशि इकट्ठा करने कहा। लोगों ने जब पैसे इकट्ठे किए तो पांच से 10 हजार रुपये तक हुए। इस पैसे से अंत्येष्टि का काम हो गया।

आर्थिक रूप से कमजोर परिवार की ताकत

युवाओं की इस सोच ने आर्थिक रूप से कमजोर परिवार को बहुत ताकत दी है। समाज में ज्यादातर ऐसे परिवार हैं जो गरीबी रेखा के नीचे आते हैं। गमी के वक्त ऐसे लोगों की मदद में हाथ उठना बड़ा सहारा है।

सभी समाज को एकजुट होकर इस पहल को आगे बढ़ाने की जरूरत है। प्रदेश में पिछड़े समाज में कई परिवार ऐसे हैं,

जिन्हें गमगीन माहौल में आर्थिक मदद की जरूरत होती है। बेकार हो जाने वाले कफन के पैसे देने से गरीब परिवार को बड़ी मदद हो जाती है। – वैष्णव भत्रिया, युवा अध्यक्ष

Summary
Review Date
Reviewed Item
छत्तीसगढ़: रायपुर के युवा बदल रहे समाज की दिशा, जरूरतमंद परिवार को दिया सहारा
Author Rating
51star1star1star1star1star
congress cg advertisement congress cg advertisement
Tags