छत्तीसगढ़: भाजयुमो में राजनीतिक वर्चस्व की लड़ाई सड़क पर आई, महामंत्री का सिर फोड़ा

भिलाई. छत्तीसगढ़ के भिलाई में भारतीय जनता युवा मोर्चा में वर्चस्व की लड़ाई सड़क पर आ गई है। मंगलवार देर रात दो गुटों में हुई मारपीट में भाजयुमो महामंत्री का सिर फोड़ दिया। उन्हें गंभीर हालत में ICU में भर्ती कराया गया है। इसके अलावा कई अन्य नेताओं और कार्यकर्ताओं को भी चोटें आई हैं। झगड़ें के बाद दोनों गुट सुपेला थाने पहुंच गए। जहां देर रात तक हंगामा चलता रहा। इसके बाद पुलिस ने दोनों ओर से क्रॉस एफआईआर दर्ज की है।

भिलाई के नेहरू नगर में मंगलवार देर रात भाजयुमो के भिलाई जिला महामंत्री लोकेश पांडेय और कैंप मंडल अध्यक्ष शुभम सिंह के बीच जमकर मारपीट हुई। मारपीट में लोकेश के सिर में गहरी चोट आई है। बाकी लोग ठीक हैं। झगड़े के बाद दोनों गुटों ने एक दूसरे के ऊपर लूट का आरोप भी लगाया है। इसके बाद दोनों गुट देर रात सुपेला थाना पहुंचे और वहां भी हंगामा करते रहे। सुपेला पुलिस के मुताबिक दोनों के बीच पुराने विवाद को लेकर झगड़ा हुआ है।

राज्य सभा सांसद सरोज पांडेय गुट के हैं लोग
सुपेला पुलिस के मुताबिक, झगड़ा करने वाला गुट राज्य सभा सांसद सरोज पांडेय और उनके भाई राकेश पांडेय का है। मारपीट से पहले घटना की रात दोनों लोग सरोज पांडेय के भाई राकेश पांडेय से मिलने भी गए थे। वहां से निकलते ही दोनों के बीच खूनी संघर्ष हुआ। बताया जा रहा है की झगड़े के दौरान सांसद बंगले से फोन कर झगड़ा करने से मना भी किया गया था, लेकिन उन्होंने किसी की नहीं सुनी और मारपीट करने लगे।

दशहरा मैदान में भी की मारपीट
इससे पहले भी भाजयुमो के कैंप मंडल अध्यक्ष शुभम सिंह और भाजयुमो के पूर्व जिलाध्यक्ष सतेंद्र सिंह के बीच मारपीट हुई थी। उस समय भी यह मामला काफी गरमाया था। दोनो गुटों ने भिलाई नगर थाने में हंगामा कर एक दूसरे के ऊपर आरोप लगाए थे। बाद में पुलिस ने मामला दर्ज किया था।

समझाने के बाद भी नहीं सुधार
दशहरा मैदान में मारपीट की घटना को अंजाम देने के बाद भाजपा पार्टी की छवि जिले में काफी धूमिल हुई थी। इसके बाद पार्टी के उच्च पदाधिकारियों ने युवा मोर्चा के इन पदाधिकारियों को समझइश दी थी कि वो आपस में इस तरह का व्यवहार न करें और पार्टी की छवि को बनाए रखते हुए कार्य करें। इस समझाइश के बाद भी भाजयुमो के नेताओं में कोई सुधार नहीं हुआ और एक बार फिर आपस में झगड़ा कर बैठे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button