छत्तीसगढ़

स्व सहायता समूह बनाकर रोजगार हासिल कर रही है छत्तीसगढ़ की महिलाएं

हमर छत्तीसगढ़ योजना : स्व सहायता समूह बनाकर मुर्गीपालन कर रही महिलाएं

रायपुर : स्व सहायता समूह के जरिए महिलाओं के अपने पैरों पर खड़े होने के किस्से अब छत्तीसगढ़ में आम हो गए हैं। महिलाएं स्व सहायता समूह बनाकर न केवल रोजगार हासिल कर रही हैं, बल्कि सामाजिक और आर्थिक रूप से मजबूत भी हो रही हैं। धमतरी जिले के बगौद की महिलाओं ने भी स्व सहायता समूह के माध्यम से सफलता की इबारत लिखी है। कभी मजदूरी करने वाली महिलाएं अब स्व रोजगार कर हर महीने दस हजार रूपए कमा रही हैं।

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अपने साथी पंचों के साथ अध्ययन प्रवास पर रायपुर आईं धमतरी जिले की बगौद पंचायत की पंच योगेश्वरी साहू बताती हैं कि उनके गांव की महिलाएं स्व सहायता समूह बनाकर मुर्गीपालन कर रही हैं। इस धंधे से हर महीने वे दस हजार रूपए कमा रही हैं। वे बताती हैं कि खेती-मजदूरी करने वाली 15 महिलाओं ने संगठित होकर कुछ नया करने की ठानी और जय चंडी महिला स्व सहायता समूह का गठन किया। समूह की महिलाओं ने ‘विहान’ योजना के तहत मुर्गीपालन के लिए एक लाख 40 हजार रूपए का ऋण लिया।

पंच योगेश्वरी साहू बताती हैं कि स्व सहायता समूह की महिलाएं अपने मुर्गीपालन के व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए काफी मेहनत कर रही हैं। इलाके में देशी मुर्गी की मांग अच्छी होने से उनका धंधा दिन-ब-दिन जोर पकड़ते जा रहा है। ग्राहकी बढ़ने से समूह की कमाई में बढ़ोतरी हो रही है। मांग के अनुरूप आपूर्ति हो सके, इसके लिए महिलाएं कोई कसर नहीं छोड़ रही हैं। मुर्गीपालन का काम शुरू करने के बाद से समूह के महिलाओं की माली हालत सुधर रही है। धंधे को आगे बढ़ाने और इसके सुचारू संचालन में उन्हें अब परिवार का भी सहयोग मिल रहा है।

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.