छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ी भाषा को स्कूलों में शामिल करने प्रदेश में भी होगा आन्दोलन

रायपुर : छत्तीसगढ़ी भाषा में प्रदेश की स्कूलों में पढाई कराए जाने की मांग को लेकर दिल्ली के जंतर मंतर में सत्याग्रह करने वाली छत्तीसगढ़िया महिला क्रांति सेना ने आज रायपुर पहुँचकर पत्रकारों से चर्चा की. महिला क्रांति सेना ने इस दौरान बताया की उन्होंने छत्तीसगढ़ के स्कूलों में छत्तीसगढ़ी भाषा में पढाई कराए जाने की मांग केंद्र सरकार और प्रदेश के सांसदों से कि है. महिला क्रांति सेना के पदाधिकारियों ने बताया की उन्होंने केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात कर अपनी मांगे रखी थी जिसमे उन्होंने इसे राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र में बताया है. पदाधिकारियों ने बताया की दिल्ली के जन्तर मंतर में हुए सत्याग्रह कई सांसदों ने उनके आन्दोलन को समर्थन करते हुए राज्य सरकार से बात करने का आश्वासन दिया है. आन्दोलनकारियों ने बताया की छत्तीसगढ़ी भाषा में पढाई कराने का अधिकार राज्य सरकार को हैं लेकिन सरकार इसके लिए कोई कदम नही उठा रही है ऐसे में पदाधिकारियों ने आगामी दिनों में छत्तीसगढ़ में भी सत्याग्रह करने का निर्णय लिया है. छत्तीसगढ़िया महिला क्रांति सेना की मांग है कि प्रदेश के स्कूलों में पहली से लेकर पांचवीं कक्षा तक छत्तीसगढ़ी भाषा में पढाई होनी चाहिय ताकि बचपन से ही स्कूली बच्चों को उनकी भाषा का ज्ञान हो सके. महिला क्रांति सेना ने सरकार के द्वारा मांग पूरी नही होने की स्थिति में उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी है.

Tags
Back to top button