छत्तीसगढ़ी संस्कृति एवं भाषा को बचाने के लिए पद यात्रा

सरकारी कार्यों में छत्तीसगढ़ी के प्रयोग की मांग

अंकित राजपूत :
बिलासपुर।

छत्तीसगढ़ी भाषा में पढ़ाई लिखाई व सरकारी कार्यालयों में कामकाज कराने के उद्देश्य से छत्तीसगढ़िया महिला क्रांति सेना व मंच के लोग बैनर पोस्टर के साथ भव्य पद यात्रा निकाली। छत्तीसगढ़ी बोलबो, छत्तीसगढ़ी म पढ़बो-लिखबो कहते हुए लोगों को विलुप्त होती हुई छत्तीसगढ़ी मातृभाषा को बचाने का आह्वान किया।

इसी कड़ी में छत्तीसगढ़िय़ा महिला क्रांति सेना व छत्तीसगढ़ राजभाषा मंच के संयुक्त तत्वावधान में आज महामाया चौक से हाईकोर्ट तक पदयात्रा का आयोजन किया गया। पदयात्रा सुबह दस बजे महामाया चौक सरकण्डा से शुरू हुई।

नेहरू चौक, राजीव गांधी चौक, तिफरा ओवर ब्रिज, काली मंदिर तिफरा होते हुए बोदरी, परसदा स्थित हाईकोर्ट पहुंची। वहां पहुंचकर छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट न्यायालय के पदाधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया।

इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष लता राठौर, रायपुर से सुनीता हनुमंता, दुर्ग जिला अध्यक्ष अनीता वर्मा, नंदिनी पाटनवार, शीतल पाटनवार, डॉ. निर्मल नायक, नंदकिशोर शुक्ला, जागेश्वरी साहू, धनेश्वरी सोनी, संध्या सिंह, मधु कश्यप, भुवन वर्मा, योगेंद्र वर्मा, हिलेन्द्र ठाकुर सहित बड़ी संख्या में छत्तीसगढ़ महिला क्रांति सेना के पदाधिकारी उपस्थित थे।

Back to top button