छत्तीसगढ़ी संस्कृति और परम्परा हमारी पहचान

राज्य सरकार द्वारा कलाकारों को बढ़ावा देने का निरंतर प्रयास किया जा रहा

रायपुर: मंत्री स्कूल शिक्षा, अनुसूचित जाति एवं जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने आज सूरजपुर जिला मुख्यालय में आयोजित जिला स्तरीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव एवं युवा महोत्सव का शुभारंभ करते हुए कहा कि सुआ, करमा, शैला, डोमकेच नृत्य और गेड़ी दौड़ छत्तीसगढ़ संस्कृति और परम्परा की पहचान है।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा कलाकारों को बढ़ावा देने का निरंतर प्रयास किया जा रहा है। जिससे आदिवासियों को एक अच्छा मंच और उचित सम्मान मिल सके। प्रदेश की संस्कृति को बढ़ावा देने के उद्देश्य से राज्य में राज्यगीत प्रारंभ किया गया है। जिसे प्रत्येक राज्य स्तरीय कार्यक्रम में सुनाया जाएगा। इस अवसर पर उन्होंने मांदर पर थाप देकर नृत्य दलों का उत्साहवर्धन किया।

महोत्सव का शुभारंभ अलग-अलग स्थानीय परिधानों से सुसज्जित जिले के अलग-अलग ग्रामीण क्षेत्रों से चयनित प्रतिभागियों ने अपनी प्रतिभा के जौहर का प्रदर्शन किया। डॉ. टेकाम सहित सभी अतिथि प्रतिभागियों का प्रदर्शन देख मंत्रमुग्ध हो गए।

डॉ. टेकाम ने कहा कि प्रतिभागियों का प्रदर्शन और गांव की परम्परा को एक बार फिर से जीवन्त रूप में देखकर बीता हुआ कल सामने आ गया। इस अवसर पर कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि अध्यक्ष सरगुुजा क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण एवं विधायक प्रेमनगर खेलसाय सिंह, विधायक भटगांव पारसनाथ राजवाड़े, अध्यक्ष जिला पंचायत अशोक जगते, कलेक्टर दीपक सोनी, जिला प्रशासन के अधिकारी, जनप्रतिनिधि, स्कूल के विद्यार्थी और ग्रामीणजन उपस्थित थे।

कलेक्टर ने बताया कि छत्तीसगढ़ शासन के गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ की थीम पर जिला स्तरीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव और युवा उत्सव का आयोजन जिला स्तर पर किया जा रहा है। इसमें जिले के प्रत्येक स्थान से प्रतिभागी कलाकार सम्मिलित होकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे।

इसके लिए जिले के 6 विकास खण्डों को 31 कलस्टर में विभाजित कर 19 से 31 अक्टूबर तक कलस्टर स्तरीय युवा महोत्सव और आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन किया गया। इसके बाद 5 से 16 नवम्बर तक विकास खण्ड स्तरीय प्रतियोगिता आयोजित की गई।

जिसमें कलस्टर में प्रथम स्थान प्राप्त प्रतिभागी कलाकारों ने हिस्सा लिया। जिला स्तरीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव और युवा महोत्सव का आयोजन 22 एवं 23 नवम्बर को हो रहा है। जिला स्तरीय प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त प्रतिभागी कलाकार रायपुर में 12 से 14 जनवरी 2020 में आयोजित राष्ट्रीय युवा महोत्सव में जिले का प्रतिनिधित्व करेंगे।

डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम और अन्य अतिथियों ने इस अवसर पर शासन की कल्याणकारी योजनाओं के लगाए गए स्टालों का अवलोकन कर सभी प्रदर्शनियों को सराहा।

Tags
Back to top button