भाजपा प्रत्याशियों में छत्तीसगढ़ी विधायकों की टिकट कटी, आउट सोर्सिंग विधायकों की नहीं कटी : ललित

रायपुर।

किसान मजदूर संघ के संयोजक ललित चन्द्रनाहू ने कहा कि विधानसभा चुनाव 2018 के लिए भाजपा के जारी प्रत्याशियों में मंत्री रमशीला साहू, विधायक गिरवर जंघेल, भोजराज नाग, राजू सिंह क्षत्री, बद्रीधर दिवान, डाॅ. खिलावन साहू, नवीन मारखण्डे, गोवर्धन मांझी, रूपकुमारी चैधरी, रामलाल चौहान, राजशरण भगत, रोहित कुमार साय छत्तीसगढ़ी विधायकों की टिकट काट कर प्रत्याशी नहीं बनाया गया।

वहीं आउट सोर्सिंग के विधायक अमर अग्रवाल एवं गौरीशंकर अग्रवाल (हरियाणा मूल), शिवरतन शर्मा, राजेश मूणत, बृजमोहन अग्रवाल, लाभचंद बाफना, संतोष बाफना (राजस्थान मूल), प्रेमप्रकाश पाण्डेय, विद्यारतन भसीन (बिहार मूल), श्रीचंद्र सुन्दरानी (पाकिस्तानी शरणार्थी), देवजी भाई पटेल (गुजरात मूल), डाॅ. रमन सिंह (उत्तरप्रदेश मूल) की टिकट नहीं कटी फिर से प्रत्याशी घोषित किये गये।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (गुजरात), राष्ट्रीय संगठन मंत्री सौदान सिंह (उ.प्र.), मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह (उ.प्र.), के प्रत्याशी चयन कमेटी में एक भी छत्तीसगढ़ी नेता नहीं रखे गये और आउट सोर्सिंग के नेताओं के द्वारा छत्तीसगढ़ी मूल के राजनीति में उभरते हुए प्रभावशाली विधायकों की टिकट काटी गई। परंतु आउट सोर्सिंग के 12 विधायकों में से किसी की भी टिकट नहीं काटी गई।

भ्रष्टाचार के आरोप के मंत्रियो की भी टिकट नहीं काटी गई। भाजपा के विगत 15 वर्षाें के शासन में लगभग 8 प्रतिशत आउट सोर्सिंग के व्यक्तियों को टिकट दे कर विधायक निर्वाचित करवाया जा रहा है। जबकि प्रदेश में इनकी जनसंख्या 0.1 प्रतिशत के लगभग है। इस आधार पर स्पष्ट है कि भाजपा प्रदेश के बाहरीजन/आउट सोर्सिंग की पार्टी है।

प्रदेश के मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह, मंत्रीगण अमर अग्रवाल, बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मूणत, प्रेमप्रकाश पाण्डेय और विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल के होने से प्रदेश की सम्पूर्ण सत्ता आउट सोर्सिंग के आधीन है। छत्तीसगढ़ में छत्तीसगढ़ी राज के लिए आउट सोर्सिंग के भाजपा प्रत्याशियों को पराजित किया जाना चाहिए।

Back to top button