छत्तीसगढ़

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने फेसबुक, ट्वीटर और यू-ट्यूब पर मतदाताओं से किया सीधा संवाद

लोगों की जिज्ञासाओं और सवालों का किया समाधान, मतदाता सूची में अधिक से अधिक नाम जुड़वाने और मताधिकार के उपयोग की अपील

रायपुर : छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू आज दोपहर 12 बजे से एक बजे तक फेसबुक, ट्वीटर और यू-ट्यूब पर एक घंटे तक लाइव रहे। इस दौरान उन्होंने अनेक मतदाताओं के सवालों के जवाब दिए और उनकी जिज्ञासाओं का समाधान किया। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी मतदाता जागरूकता कार्यक्रम के अंतर्गत मतदाताओं के बीच बेहतर पहुंच बनाने और आगामी विधानसभा निर्वाचन में मतदान के लिए प्रोत्साहित करने के लिए लोगों से रू-ब-रू हुए। फेसबुक, ट्वीटर और यू-ट्यूब के माध्यम से हजारों लोग उनसे जुड़े और निर्वाचन की तैयारी, प्रक्रियाओं एवं व्यवस्थाओं के बारे में सवाल पूछे। लाइव के दौरान अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एस. भारतीदासन और संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी समीर विश्नोई सहित निर्वाचन कार्य से जुड़े सोशल मीडिया विंग के अधिकारी और तकनीकी स्टॉफ भी मौजूद थे।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने फेसबुक, ट्वीटर और यू-ट्यूब पर लाइव के दौरान बताया कि छत्तीसगढ़ में आगामी 12 नवम्बर और 20 नवम्बर को दो चरणों में मतदान होगा। निर्वाचन कार्यक्रमों की घोषणा के साथ ही प्रदेश में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे अधिक से अधिक संख्या में मतदाता सूची में नाम जुड़वाएं। मतदान के दिन निर्भीक होकर, किसी प्रलोभन या दबाव में आए बिना अपने मताधिकार का प्रयोग करें। भारत निर्वाचन आयोग स्वतंत्र और निष्पक्ष निर्वाचन के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। आदर्श आचार संहिता का पालन सुनिश्चित कराने सभी जरूरी नियंत्रण एवं निगरानी की जा रही है।

साहू ने आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतों के लिए प्रदेश में पहली बार इस्तेमाल हो रहे ऑनलाइन मोबाइल एप सी-विजिल के बारे में भी मतदाताओं को विस्तार से बताया। उन्होंने जानकारी दी कि इस एप का उपयोग कर कैमरा वाले किसी भी एंड्राइड आधारित स्मार्टफोन से थ्री-जी या फोर-जी कनेक्शन के जरिए आचार संहिता के उल्लंघन की गतिविधि का फोटो खींचकर या वीडियो बनाकर शिकायत दर्ज कराई जा सकती है। शिकायतकर्ता को एप के माध्यम से ही 100 मिनट में उनकी शिकायत पर हुई कार्यवाही के बारे में जानकारी मिल जाएगी। प्रदेश में 16 अक्टूबर से पहले चरण के लिए नामांकन का प्रक्रिया शुरू होने के साथ ही यह एप काम करना शुरू कर देगा। इसे गुगल प्लेस्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है।

फेसबुक और ट्वीटर पर लाइव के दौरान मतदाताओं ने निर्वाचन के दौरान कानून-व्यवस्था, आदर्श आचार संहिता, निर्वाचन व्यय, नामांकन प्रक्रिया, मतदाता सूची संशोधन एवं नया नाम जुड़वाने, मतदाता परिचय पत्र, मतदान दल के लिए व्यवस्था, प्रत्याशियों एवं राजनीतिक दलों द्वारा सोशियल मीडिया के उपयोग, प्रचार, संपत्ति विरूपण की कार्रवाई, दिव्यांगों के लिए मतदान केन्द्रों पर व्यवस्था, डाक मतपत्र की व्यवस्था, इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन एवं वीवीपैट से जुड़े अनेक सवाल पूछे।

Tags