छत्तीसगढ़

दीपावली के पावन पर्व पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने परिवार संग मनाये दिवाली

मुख्यमंत्री ने शहीद जवानों के परिजनों को शुभकामनाएं प्रेषित की

रायपुर:दीपावली के पावन पर्व पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने परिवार संग दीये जलाए, साथ में उनकी धर्मपत्नी भी मौजूद थी। दीपावली के पावन पर्व पर मुख्यमंत्री ने शहीद जवानों के परिजनों को शुभकामनाएं प्रेषित की हैं।

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने आज स्वयं दुर्ग जिले के शहीद अमित नायक के घर पहुंचे और उनके परिजनों से भेंट कर मुख्यमंत्री का संदेश देते हुए उन्हें दीपावली पर्व की शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर दुर्ग रेंज के पुलिस महानिरीक्षक विवेकानंद सिन्हा एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रोहित झा भी उपस्थित थे।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दीपावली के पावन पर्व पर शहीद जवानों के परिजनों को शुभकानाएं प्रेषित की हैं। मुख्यमंत्री के शुभकामना संदेश को पुलिस महानिदेशक और संबंधित जिलों के पुलिस अधीक्षकों के भी माध्यम से शहीदों के परिजनों को भेंट किया जा रहा है।

श्री बघेल ने शहीदों की शहादत को नमन करते हुए कहा है कि राज्य बनने के बाद अब तक छत्तीसगढ़ पुलिस के 517 वीर जवानों ने अदम्य साहस का परिचय देते हुए अपने प्राण न्यौछावर कर राज्य और देश के लिए बलिदान दिया है। हमारे जवानों के शौर्य और पराक्रम को कभी नहीं भुलाया जा सकता है।

शासन द्वारा शहीदों के परिजनों के कल्याण हेतु तत्परता से कार्यवाही की जा रही है। विगत दो वर्षों में 47 शहीदों के परिजनों को अनुकम्पा नियुक्ति प्रदान की गयी है। इसके साथ ही शहीदों के परिजनों को तत्काल सहायता राशि उपलब्ध कराई गई है, विगत दो वर्षो में शहीदों के परिजनों को लगभग 21 करोड़ रूपए की सहायता प्रदान की गई है।

उन्होंने कहा कि शहीद जवानों के परिजनों को आर्थिक कठिनाई न उठाना पड़े इसके लिए हम सदैव चिंतित हैं। इसी तारतम्य में शहीद जवानों के परिजनों को दी जाने वाली एक्सग्रेशिया राशि (अनुग्रह अनुदान) 3 लाख रूपये से बढ़ाकर 20 लाख रूपए भी कर दी गयी है।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि शहीदों के परिजन स्वयं को अकेला ना समझें, आप हमारे परिवार का हिस्सा हैं और आपके हर सुख-दुख में हम हमेशा आपके साथ हैं। दीपावली अंधकार को मिटाकर रोशनी फैलाने का पर्व है। इस पर्व पर मेरी शुभकानाएं हैं कि आपके परिवार में हमेशा खुशियों की रोशनी बनी रहे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button