छत्तीसगढ़

बाल दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बच्चों व प्रदेशवासियों को दी बधाई

चाचा नेहरू की याद में इसे 14 नवंबर को मनाया जाता है बाल दिवस

रायपुर: आज आजाद भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की जयंती है. इस अवसर को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है. पहले बाल दिवस को 20 नवंबर को मनाया जाता है मगर अब चाचा नेहरू की याद में इसे 14 नवंबर को मनाया जाता है.

वहीं इस अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बच्चों व प्रदेशवासियों को बाल दिवस की बधाई देते हे कहा कि भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू को बच्चे बहुत प्रिय थे, वे बच्चों को देश का भावी निर्माता मानते थे.

बच्चे भी पंडित नेहरू से बहुत स्नेह रखते थे और उन्हें चाचा नेहरू कहकर पुकारते थे. इसी स्नेह और प्रेम के कारण हर वर्ष हम पंडित जवाहर लाल नहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाते हैं.

भूपेश बघेल ने कहा कि बाल दिवस बच्चों के लिए समर्पित दिन है. इस दिन को भावी पीढ़ी और राष्ट्र के भविष्य निर्माण के रूप में लें. सभी लोग बच्चों के पोषण, शिक्षा, विकास और चरित्र निर्माण के लिए सोचें और आवश्यक कदम उठाएं.

सीएम बघेल ने कहा कि बच्चों में कुपोषण विश्व की एक बड़ी समस्या है. कमजोर नींव पर मजबूत इमारत खड़ी नहीं हो सकती. कमजोर और कुपोषित बच्चों से हम विकसित राष्ट्र का सपना पूरा करने की उम्मीद कैसे रख सकते हैं.

उन्होंने बाल दिवस पर अपील की कि बच्चों में कुपोषण दूर करने के लिए हरसंभव प्रयास करें. साथ ही नैतिक शिक्षा और संस्कार बच्चों में डालें, अपनी संस्कृति और सभ्यता से बच्चों का परिचय कराएं. उन्होंने कहा कि आज हम जैसा बच्चों को गढ़ेंगे भविष्य भी वैसा ही होगा.

Tags
Back to top button