छत्तीसगढ़

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने असम में ली बूथ लेवल कार्यकर्ताओं की बैठक

कार्यकर्ताओं की ट्रेनिंग प्रोग्राम में बूथ जीतने का मंत्र दे रहे सीएम बघेल

रायपुर:मुख्यमंत्री भूपेश बघेल राहा में आयोजित ट्रेनिंग प्रोग्राम में कांग्रेस के नेता और कार्यकता एकजुट हुए हैं। कार्यकर्ताओं की ट्रेनिंग प्रोग्राम में सीएम बघेल बूथ जीतने का मंत्र दे रहे हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने असम में बूथ लेवल कार्यकर्ताओं की बैठक ली।

छत्तीसगढ़ के 55 लोक कलाकार छत्तीसगढिय़ा मूल के असमियों के बीच करेंगे प्रचार :

उधर कांग्रेस ने असम विधानसभा चुनाव में सांस्कृतिक दांव भी चल दिया है। इसके लिए छत्तीसगढ़ के अलग-अलग सांस्कृतिक दलों के 55 कलाकार असम भेजे गये हैं।

सतनामी, साहू और आदिवासी समुदाय से संबद्ध ये कलाकार अपर असम के चाय बगान वाले क्षेत्रों में कांग्रेस के लिए चुनाव प्रचार करेंगे। कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव और असम के प्रभारी विकास उपाध्याय ने छत्तीसगढ़ मूल के असमी लोगों के बीच साझी संस्कृति के जरिए वोट बटोरने की रणनीति के तहत कलाकारों को बुलाया है।

कांग्रेस ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को असम चुनाव के लिए कांग्रेस का सीनियर आब्जर्वर और समन्वयक बनाया है। वहीं रायपुर विधायक विकास उपाध्याय को राष्ट्रीय सचिव बनाने के बाद असम का प्रभारी बनाया गया है। कांग्रेस की कोशिश छत्तीसगढ़ मूल के मतदाताओं को पार्टी के पक्ष में लामबंद करने का है। ये लोग वर्षों से असम के चाय बागानों में काम कर रहे हैं। बताया जा रहा है।

25 लाख की आबादी पर नजर :

कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव और रायपुर विधायक विकास उपाध्याय ने कहा, असम में छत्तीसगढ़ मूल के लोगों की आबादी 25 लाख से अधिक है। ये लोग वर्षों से यहां के चाय बागानों में काम रहे हैं। इनमें सतनामी, साहू, निषाद और आदिवासी समाज के लोग शामिल हैं। वे अपने जड़ों और संस्कृति को याद करते हैं। उन्होंने संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत से चर्चा कर कलाकारों का दल बुलवाया है।

छह दिन चलेगा सांस्कृतिक अभियान, मंत्री भी जाएंगे :

विकास उपाध्याय ने बताया, अपर असम के 20 से अधिक विधानसभा क्षेत्रों में सांस्कृतिक दलों का कार्यक्रम होना है। यह अभियान अगले छह दिनों तक जारी रहेगा। इसमें छत्तीसगढ़ के संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत भी पहुंचेंगे।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी तीन दिन के दौरे पर असम पहुंच गये हैं। छत्तीसगढ़ से असम गये कलाकारों में दिलीप षड़ंगी, गरिमा दिवाकर, स्वर्णा दिवाकर, राकेश तिवारी, प्रशांत ठाकर और मोहम्मद तारीक खान (गिन्नी) जैसे प्रमुख कलाकार शामिल हैं। उनके साथ उनका सांस्कृतिक दल भी है। ये कलाकार स्थानीय लोगों के साथ सांस्कृतिक संवाद भी करेंगे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button