Warning: mysqli_real_connect(): Headers and client library minor version mismatch. Headers:50562 Library:100138 in /home/u485839659/domains/clipper28.com/public_html/wp-includes/wp-db.php on line 1612
मुख्यमंत्री ने किया स्वदेशी मेले का शुभारंभ - Clipper28 Digital Media

मुख्यमंत्री ने किया स्वदेशी मेले का शुभारंभ

मेक इन इण्डिया अभियान से स्वदेशी वस्तुओं की विश्वसनीयता बढ़ी

रायपुर : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज शाम जिला मुख्यालय राजनांदगाँव के स्टेट हाई स्कूल मैदान में स्वदेशी मेले का शुभारंभ किया। भारतीय विपणन विकास केन्द्र द्वारा राजनांदगांव जिले में पहली बार स्वदेशी मेले का आयोजन किया गया है, जो 22 फरवरी तक चलेगा। मुख्यमंत्री ने शुभारंभ समारोह में कहा- कि स्वदेशी वस्तुओं को बढ़ावा देने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा संचालित मेक इन इण्डिया अभियान से भारतीय उत्पादों की गुणवŸाा और विश्वसनीयता बढ़ी है।

लोग आज विदेशी माल की जगह स्वदेशी माल की खरीदी को प्राथमिकता दे रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में चलाए जा रहे मेक इन इण्डिया अभियान की यह बड़ी कामयाबी है। मेले का आयोजन स्वदेशी जागरण फाउण्डेशन से संबंध भारतीय विपणन विकास केन्द्र द्वारा किया गया है। यह मेला आगामी 22 फरवरी तक चलेगा, जहां प्रतिदिन छत्तीसगढ़ की कला और संस्कृति पर आधारित अनेक प्रकार की प्रतियोगिताएं और सांस्कृतिक कार्यम होंगे। समारोह की अध्यक्षता लोकसभा सांसद अभिषेक सिंह ने की। इस अवसर पर विशेष अतिथि के रूप में महापौर मधुसूदन यादव, विधायक सरोजिनी बंजारे, पूर्व सांसद प्रदीप गांधी, स्वदेशी जागरण मंच के मुख्य न्यासी राजेन्द्र दुबे उपस्थित थे।

डॉ. सिंह ने स्वदेशी की भावना का विस्तार के उद्देश्य से राजनांदगांव में पहली बार स्वदेशी मेला आयोजित करने के लिए स्वदेशी जागरण मंच के स्थानीय पदाधिकारियों को बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि इसके पहले यह मेला केवल रायपुर और बिलासपुर में ही लगता था। इसकी पहचान इतनी व्यापक थी कि लोग सामान खरीदने के लिए इस मेले का इंतजार करते थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हर आदमी स्वदेशी के महत्व को जानता है। मेक इन इण्डिया और मेक इन छत्तीसगढ़ भी एक तरह से स्वदेशी को प्रोत्साहित करने के उपम हैं। हर गांव और अंचल की अपनी विशिष्टता होती है। उस देशी विशिष्टता को उभारकर सामने लाना ही स्वदेशी अभियान का मूलमंत्र है। उन्होंने कहा कि राजनांदगांव जिले की भी अपनी अनेक खासियतें है। यहां डोंगरगांव, छुईखदान आदि इलाकों में बुनकरी कारोबार की अच्छी संभावनाएं हैं।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि मेक इन इण्डिया कार्यक्रम से भारतीय उत्पादों की गुणवŸाा और विश्वसनीयता बढ़ी है। हमारे उद्योगों से बने सामान विश्व स्तर पर विकसित देशों को टक्कर दे रहे हैं। लोग अब सामान खरीदते समय मेड इन चाईना और मेड इन जापान का नहीं बल्कि मेड इन इण्डिया को प्राथमिकता देते हैं। उन्होंने कहा कि पतंजली ने स्वदेशी उत्पादों के निर्माण और विपणन में काफी नाम कमाया है। मल्टीनेशनल कम्पनियों की कई दुकाने आज बंद सी हो गई हैं। पतंजलि का टर्न ओव्हर आज 10 हजार करोड़ रुपए का हो गया है। उन्हांेने उम्मीद जताई की इस पांच दिवसीय स्वदेशी मेले से छत्तीसगढ़ की कला और संस्कृति को भी सामने आकर प्रदर्शन का अवसर मिलेगा।

मेला आयोजन समिति के संयोजक और पूर्व सांसद प्रदीप गांधी ने मेला आयोजन का उद्देश्य बताया और आभार प्रदर्शन सह संयोजक अमलेन्दु हाजरा ने किया। इस अवसर पर राज्य अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष रामजी भारती, राज्य भंडार गृह निगम के अध्यक्ष नीलू शर्मा, राज्य ऊर्दू अकादमी के अध्यक्ष अकरम कुरैशी, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष सचिन बघेल, राजगामी संपदा न्यास के पूर्व अध्यक्ष संतोष अग्रवाल, नगर निगम के सभापति शिव वर्मा, पूर्व विधायक विनोद खांडेकर, पूर्व विधायक कोमल जंघेल, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष दिनेश गांधी, सावन वर्मा, सहित बड़ी संख्या में स्थानीय पार्षद और जनप्रतिनिधि और गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

new jindal advt tree advt
Back to top button