मुख्यमंत्री पीटे ढोल, नीति आयोग ने खोली पोल : अमित जोगी

यदि नीति आयोग का कथन गलत है तो दलगत राजनीती से ऊपर उठकर मुख्यमंत्री दिल्ली में दर्ज करवाएं विरोध

रायपुर: मरवाही विधायक अमित जोगी ने नीति आयोग द्वारा छत्तीसगढ़ को भारत के पिछड़ेपन का दोषी बताये जाने पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा नीति आयोग के सीईओ एवं भारत सरकार में उच्च अधिकारी जो केंद्र सरकार की संघीय नीति एवं बजट निर्धारण की प्रशासनिक कमान रखता हो और जो सीधे प्रधानमंत्री से निर्देश लेकर राज्यों के साथ कार्य करता हो, उस अधिकारी द्वारा सार्वजनिक मंच पर छत्तीसगढ़ को भारत के पिछड़ेपन का दोषी बताना, छत्तीसगढ़ सरकार विशेषकर मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को आईना दिखाना है। इधर छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री विकास का ढोल पीट रहे हैं, उधर दिल्ली में नीति आयोग और उसके अधिकारी घूम घूम कर छत्तीसगढ़ की पोल खोल रहे हैं।

अमित जोगी ने कहा कि आज से 10 दिन पहले 14 अप्रैल 2018 को बीजापुर प्रवास के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ में हुए विकास की जम कर तारीफ की थी। आज नीति आयोग के CEO अमिताभ कांत कहते हैं कि छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों की वजह से भारत पिछड़ रहा है। क्या प्रधानमंत्री ने छत्तीसगढ़ प्रवास के दौरान झूठ बोला था या नीति आयोग के CEO झूठ बोल रहे हैं? नीति आयोग के अध्यक्ष स्वयं प्रधानमंत्री हैं इसलिए नीति आयोग के CEO का कथन प्रधानमंत्री का ही कथन समझा जाना चाहिए।

अमित जोगी ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह बताएं की क्या है छत्तीसगढ़ में विकास की हकीकत? क्या छत्तीसगढ़ की वजह से भारत पिछड़ रहा है? यदि नहीं तो छत्तीसगढ़ की जनता चाहती है कि दलगत राजनीती से ऊपर उठ कर मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ का पक्ष मजबूती से नीति आयोग और प्रधानमंत्री के समक्ष रखें। जोगी ने कहा कि क्या जनता ने यह दिन देखने के लिए डॉ रमन सिंह को 3 बार जनादेश दिया? आज छत्तीसगढ़ की जनता पूरे देश के सामने स्वयं को बहुत ही अपमानित महसूस कर रही है। जोगी ने कहा कि यदि राज्य सरकार इस विषय पर चुप्पी बनाये रखती है तो यह बात पुख्ता हो जायेगी कि मुख्यमंत्री के विकास के सारे दावे झूठे हैं।

अमित जोगी ने आगे कहा कि छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने अपने 3 वर्ष के छोटे से कार्यकाल में नए राज्य की अत्यधिक चुनौतियों का सामना करते हुए छत्तीसगढ़ को भारत ही नहीं विश्व के नक़्शे में अलग पहचान दिलवाई थी। 14 वर्षों के डॉ रमन सिंह के कार्यकाल के बाद आज उसी छत्तीसगढ़ पर भारत को पिछाड़ने का दोष दिया जा रहा है। यदि यह सही है तो डॉ रमन सिंह को अपने पद पर एक क्षण भी बने रहने का अधिकार नहीं है। या तो मुख्यमंत्री देश के समक्ष छत्तीसगढ़ की स्थिति स्पष्ट करें या नैतिकता के नाते इस्तीफ़ा दें।

नीति आयोग के अधिकारी ने छत्तीसगढ़ के पिछड़ेपन की जो बात दिल्ली में जामिया मिलिया इस्लामिया में की, उस पिछड़ेपन को छत्तीसगढ़ की जनता पिछले पंद्रह वर्षों से हर दिन, हर पल जीने विवश है। अमित जोगी ने कहा कि यह बहुत ही गंभीर बात है कि नीति आयोग के CEO ने भारत के पिछड़ने की वजह जिन 5 राज्यों को बताया है उनमें से 4 राज्य – छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में भाजपा की स्वयं की सरकार है जबकि बिहार में भाजपा गठबंधन दल के रूप में सरकार में शामिल है।

Back to top button