मध्यप्रदेशराज्य

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की कुर्सी अभी खतरे में, कोरोना की वजह से रुका चुनाव

मुंबई: महाराष्ट्र में कोरोना की वजह से चुनाव टाल दिया गया है, लिहाजा शिवसेना के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को अपनी कुर्सी बचानी मुश्किल में पड़ती दिख रही है।

दरअसल नियम के मुताबिक किसी भी मुख्यमंत्री को शपथ ग्रहण के छह महीने के भीतर राज्य के किसी भी सदन की सदस्यता लेनी जरूरी है, लेकिन कोरोना की वजह से चुनाव हो पाना संभव नहीं दिख रहा है।

दरअसल उद्धव ने 28 नवंबर 2019 को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, उस लिहाजा से उन्हें 28 मई के पहले विधानसभा या विधान परिषद में किसी एक सदन की सदस्यता लेनी होगी। लेकिन चुनाव की सुगबुगाहट दूर-दूर तक नहीं है।

सभी सीट फिलहाल महाराष्ट्र विधानसभा की भरी हुई है, ऐसे किसी रिक्त सीट से चुनाव लड़ने की भी गुंजाईश नहीं है। उद्धव अपने शिवसेना विधायकों के इस्तीफे का भी जोखिम लेने को तैयार नहीं है। वैसे भी नियम के मुताबिक विधानसभा चुनाव के लिए आयोग को 45 दिन पहले अधिसूचना जारी करनी होती है।

हालांकि विधान परिषद का रास्ता थोड़ा आसान है, क्योंकि इसके लिए सिर्फ 15 दिन पहले अधिसूचना जारी करनी होती है। महाराष्ट्र विधान परिषद के 9 सदस्यों का कार्यकाल 24 अप्रैल को खत्म हो रहा है। लेकिन मुश्किल ये है कि इन सीटों पर आयोग चुनाव कराने को तैयार नहीं है।

ऐसे में उद्धव के पास दो ही रास्ते हैं, एक तो यही है कि वो राज्यपाल की तरफ से मनोनीत होने वाले दो सदस्यों में से एक मनोनयन के लिए खुद अपना नाम प्रस्तावित करें। और राज्यपाल की तरफ से राज्य सरकार की उस सिफारिश पर मुहर लगा दी जाये। हालांकि इसके लिए राज्यपाल की रजामंदी बेहद जरूरी होगी, तभी उद्धव की कुर्सी बचेगी।

Tags
Back to top button