मुख्य सचिव मारपीट मामला : दोनों आप विधायकों की जमानत अर्जी खारिज

दिल्ली मुख्य सचिव मारपीट मामलें में आरोपी विधायक अमानतुल्ला खान और प्रकाश जारवाल की जमानत की अर्जी तीस हजारी कोर्ट ने खारिज कर दी। दिल्ली पुलिस ने 2 दिनों के लिए विधायकों की पुलिस कस्टडी की अर्जी दी थी

दिल्ली मुख्य सचिव मारपीट मामलें में आरोपी विधायक अमानतुल्ला खान और प्रकाश जारवाल की जमानत की अर्जी तीस हजारी कोर्ट ने खारिज कर दी। दिल्ली पुलिस ने 2 दिनों के लिए विधायकों की पुलिस कस्टडी की अर्जी दी थी, जिसे कोर्ट ने खारिज़ कर दिया।

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

विधायकों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें
सूत्रों के मुताबिक इसके बाद आम आदमी पार्टी के विधायकों की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। वीके जैन ने कोर्ट में जो बयान दर्ज कराया है, उसके मुताबिक वह वारदात की रात जब केजरीवाल के आवास पर पहुंचे तो वहां पर मुख्य सचिव अंशु प्रकाश मौजूद थे। ऐसे में उनके साथ बदसलूकी और मारपीट हो रही थी।बयान में यह भी कहा गया है कि इस मारपीट में अंशु प्रकाश का चश्मा भी जमीन पर गिर पड़ा। यह सब मुख्यमंत्री केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की मौजूदगी में हुआ।

दोनों विधायकों ने लगाई है जमानत की गुहार
बता दें कि विधायक अमानतुल्ला खान और प्रकाश जारवाल को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। दोनों ने ही अब जमानत के लिए गुहार लगाई है। अमानतुल्ला और प्रकाश जारवाल ने मुख्यसचिव से मारपीट से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि मारपीट के आरोप किसी साजिश के तहत लगाए जा रहे हैं। इस बीच, दिल्ली पुलिस ने दोनों को जमानत नहीं देने की अपील की।

सोची समझी साजिश के तहत हुअा हमला
दिल्ली पुलिस की ओर से पेश वकील ने कहा कि मुख्य सचिव के खिलाफ पूरी सोची समझी साजिश के तहत हमला किया गया। पुलिस ने दलील दी कि आखिर आधी रात को मुख्यमंत्री के घर पर किस मकसद से बुलाया गया? जबकि ऐसी कोई इमरजेंसी भी नहीं थी। इसके अलावा इस बैठक में 11 ऐसे लोग भी मौजूद थे जिनका वहां होने का मतलब ही नहीं था।

1
Back to top button