मां बाप की प्रेरणा से प्रभावित होते हैं बच्चे

सकारात्मक प्रेरणा का सभी पर बेहतर प्रभाव पड़ता है जबकि नकारात्मक बातों का विपरीत प्रभाव पड़ता है और निराशाजनक परिणाम मिलते हैं। बच्चों पर मां बाप की प्रेरणा का सबसे बेहतर परिणाम मिलता है जिससे प्रेरित होकर बच्चे अपनी बेहतर एवं श्रेष्ठ क्षमता का प्रदर्शन करते हैं। वहीं मां बाप जितनी सक्रिय एवं तत्परता दिखाएंगे, उससे प्रेरित बच्चे भी वैसे ही कदम बढ़ाते हैं।

बच्चों को आलस एवं सुस्ती से बचाने के लिये पहले मां बाप को सक्रिय होना चाहिए एवं हर काम में तत्परता एवं तेजी दिखानी चाहिए। इससे प्रभावित बच्चे भी वैसी सक्रियता दिखाने लगते हैं। मां बाप बच्चों के सामने उदाहरण पेश करके कोई काम करेंगे तो बच्चे भी उनसे प्रेरित एवं प्रभावित होकर वैसा ही काम एवं प्रदर्शन करने लगेंगे, जैसे मां बाप तेज चलेंगे तो बच्चा भी तेज चलने लगेगा। हृदय रोग का मुख्य कारण धूम्रपान एवं आलस्य

भारत में हृदयरोगों से सर्वाधिक मौतें होती हैं। इसने महामारी जैसा रूप ले लिया है। आधुनिक जीवन शैली के चलते धूम्रपान एवं आलस्य ने अपनी जगह बना ली है। ये सभी मिलकर हृदय रोग एवं उसके खतरे को बढ़ा रहे हैं।

इससे रक्त में बुरे कोलेस्ट्राल की मात्रा बढ़ती है। रक्त धमनियां संकरी हो जाती हैं और उनमें लचीलेपन की बजाय कड़ापन आ जाता है। इन्हीं सब कारणों से हृदयरोगों का खतरा बढ़ जाता है।

Back to top button