अंतर्राष्ट्रीयटेक्नोलॉजी

चीन ने चांद पर उतार दिया अपना अंतरिक्ष ‘यान चांग ई-5’

करीब 4 दशक के बाद पहली बार चंद्रमा की सतह पर उतरा 'चांग ई-5'

बीजिंग: करीब 4 दशक के बाद पहली बार चंद्रमा की सतह पर उतरा ‘चांग ई-5’. चीन ने अपना अंतरिक्ष यान चांग ई-5 चांद पर उतार दिया है. इसके बाद चांग ई-5 मून मिशन ने चांद की सतह से पहली तस्वीर भी भेजी है.

चीन के इस मून लैंडर ने चांद की सतह पर अपने पैर के पास से ले लेकर क्षितिज तक की तस्वीर ली है. उतरने के बाद से ही इसने चांद की सतह से नमूने इकट्ठा करने का काम शुरू कर दिया. चीनी अंतरिक्ष एजेंसी ने भी गुरुवार शाम को चांग ई-5 के बारे में जानकारी दी है.

रिपोर्ट के मुताबिक, चांद की सतह से मिट्टी और पत्थर इकट्ठा करने के लिए भेजे गए चांग ई-5 मून लैंडर में कैमरा, रडार, एक ड्रिल और स्पेक्ट्रोमीटर फिट किया गया है. अब ये इनका इस्तेमाल कर चांद की सतह से मिट्टी के बेहतर नमूने इकट्ठा करेगा.

चीनी अंतरिक्ष एजेंसी ने बताया कि मंगलवार को चंद्रमा की सतह पर लैंडिंग के 19 घंटे के अंदर चांग ई-5 के एस्केंडर ने नमूनों को जमा कर लिया. जिसके बाद गुरुवार शाम को एस्केंडर ने 3,000-न्यूटन वाले थ्रस्ट इंजन के साथ चंद्रमा की 15 किलोमीटर दूर परिक्रमा कर रहे ऑर्बिटर से जुड़ने के लिए उड़ान भरी है.

बता दें कि चीन के अंतरिक्ष यान को चांद तक पहुंचाने के लिए लांग मार्च-5 रॉकेट का इस्‍तेमाल किया गया है. यह रॉकेट तरल केरोसिन और तरल ऑक्‍सीजन की मदद से चलता है. चंद्रमा की सतह पर 44 साल बाद ऐसा कोई अंतरिक्षयान उतरा है जो यहां से नमूना लेकर वापस लौटेगा. इससे पहले रूस का लूना 24 मिशन 22 अगस्त 1976 को चांद की सतह पर उतरा था.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button