अंतर्राष्ट्रीय

पाकिस्‍तान ने चीन को लीज पर दी कच्‍छ के रण की जमीन, भारतीय सीमा से सिर्फ 10 किलोमीटर दूर बनेगा नया प्रोजेक्‍ट

पाकिस्‍तान ने चीन को लीज पर दी कच्‍छ के रण की जमीन, भारतीय सीमा से सिर्फ 10 किलोमीटर दूर बनेगा नया प्रोजेक्‍ट

पाकिस्‍तान ने एक बार फिर बॉर्डर इलाके में असुरक्षा की भावना पैदा करने वाला कदम उठाया है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पड़ोसी देश ने चीन द्वारा संचालित एक कंपनी को कच्छ के रण में 95 वर्ग किलोमीटर जमीन लीज पर दी है। पाकिस्तान के इस कदम को भारतीय सुरक्षा और कोयले की खान होने की वजह से प्रर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले नजरिए से भी जोड़कर देखा जा रहा है। चीन पहले ही सिंध के थारपारकर जिले में कोयले की खान और पॉवर प्रोजेक्ट लगा चुका है। ये जगह भारतीय सीमा से करीब 40 किलोमीटर की दूरी पर है जबकि कच्छ के रण का दूसरे फेस वाला प्रोजेक्ट बॉर्डर से महज दस किलोमीटर की दूरी पर है।

सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार किसी भी अप्रिय स्थिति में चीन और पाकिस्तान द्वारा इन प्रोजेक्ट के मिलिट्री बेस बनने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। दूसरी तरफ भारत को सीमा पार बनाई गई करीब 125 मीटर गहरी सुरंगों की संख्या और स्थान का पता लगाने में भी काफी मुश्किल हो सकती है। रिपोर्ट के अनुसार सीमा पार पड़ोसी देश सुरंगें बना रहा है।

सेटेलाइट से जो तस्वीर सामने आई हैं वो काफी चौंकाने वाली है। 28 अक्टूबर, 2017 को ली गई गईं इन तस्वीरों में देखा गया है कि थारपारकर में बन रहे प्रोजेक्ट का काम सत्तर फीसदी तक पूरा हो चुका है। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार चाईना-पाकिस्तान इकॉनोमिक कॉरिडोर (सीपीईसी) के समझौते के तहत पाकिस्तान में कई बड़ी चीजों में बदलाव आया है। सीपीईसी के लिए पाकिस्तान ने अपनी सरकारी नीतियों तक में बदलाव किया है। इसीलिए थारपारकर कोयले की खान का प्रोजेक्ट इस बड़ी योजना का हिस्सा है।

Back to top button