मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने मामले में चीन का रुख साफ नहीं

मसूद को बचाने चीन ने लगाया अभी तक तीन बार वीटो

इस्लामाबाद: आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया सरगना आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के लिए आज यूनाइटेड नेशन की बैठक होगी. इसको लेकर विदेश सचिव विजय गोखले मंगलवार को यूएन में भारत का पक्ष रखने के लिए जेनेवा रवाना हो गए हैं.

हालांकि चीन ने अभी तक इस मामले में अपना रुख साफ नहीं किया है. बता दें कि मसूद को बचाने के लिए चीन अभी तक तीन बार वीटो लगा चुका है. UNSC में आज यह बैठक भारतीय समय अनुसार रात 01.30 बजे होगी.

जानकारी के अनुसार आज (13 मार्च) यूएनएससी की ‘1267 समिति’ द्वारा इस प्रस्ताव को उठाये जाने की उम्मीद है. भारत और यूएनएससी के अन्य सदस्यों द्वारा लाये गये इस तरह के प्रस्तावों पर 3 बार रोड़े अटका चुके चीन ने अभी अपने रुख की घोषणा नहीं की है.

इस मुद्दे पर भारत की अपील और चीन के रुख के बारे में कुछ दिन पहले पूछे जाने पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग ने कहा था, ‘पहले तो मैं आपसे यह कहना चाहता हूं कि यूएनएससी यूएन की एक मुख्य संस्था है और इसके पास कड़े मानक और प्रक्रिया के नियम हैं. कुछ रिपोर्टों में यूएनएससी के अंदर की जानकारी दी गई है. मुझे नहीं पता कि क्या इसे एक सबूत के रूप में गिना जा सकता है.

उन्होंने कहा था, ‘‘1267 प्रतिबंध समिति द्वारा किसी को आतंकवादी घोषित करने के बारे में चीन की स्थिति सुसंगत और स्पष्ट है. चीन ने जिम्मेदार रुख अपनाया है, समिति के नियमों और प्रक्रिया का पालन किया है तथा जिम्मेदार ढ़ंग से चर्चा में भाग लिया था. केवल बातचीत के जरिये ही हम एक जिम्मेदार समाधान तक पहुंच सकते हैं.

Back to top button