अंतर्राष्ट्रीय

चीनी सैनिक सर्दी में भी डोकलाम से नहीं हटेंगे

चीनी सैनिक सर्दी में भी डोकलाम से नहीं हटेंगे

चीनी सेना ने सर्दियों के दौरान डोकलाम गतिरोध क्षेत्र के निकट अच्छी खासी संख्या में अपने सैनिकों की मौजूदगी रखने का संकेत दिए हैं.

उसने दावा किया कि वह क्षेत्र चीनी भू-भाग में है. भारत और चीन ने 73 दिनों तक चले गतिरोध का गत 28 अगस्त को समाधान किया था, जब पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने भारत के संकरे चिकेन नेक इलाके के करीब सामरिक सड़क का निर्माण रोक दिया था.

यह इलाका पूर्वोत्तर राज्यों को जोड़ता है. भूटान भी डोकलाम क्षेत्र को अपना हिस्सा बताता है. भारत ने पीएलए द्वारा सड़क निर्माण किए जाने का विरोध किया था. उसने कहा था कि यह संकरे गलियारे की सुरक्षा को खतरे में डालता है।

भारत और चीन दोनों सर्दियों में हटा लेते थे सेना

आधिकारिक विवरणों के अनुसार चीन और भारत दोनों अतीत में सर्दियों के मौसम के दौरान अग्रिम क्षेत्रों से सैनिकों को हटा लिया करते थे. चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल वु छियान ने कहा, ‘डोंगलांग (डोकलाम) चीनी भू-भाग है.’ उन्होंने यह बात तब कही जब उनसे उन खबरों के बारे में पूछा गया, जिसमें कहा गया था कि डोकलाम गतिरोध वाले क्षेत्र में पीएलए अच्छी खासी संख्या में सैनिकों की तैनाती किये हुए है.

भारत ने भी तैनात किए सैनिक

ऐसा पूर्व की परिपाटी को खत्म करते हुए किया जा रहा है जब सर्दियों के दौरान सैनिकों को हटा लिया जाता था. उन्होंने कहा, ‘इस सिद्धांत के आधार पर हम खुद से सैनिकों की तैनाती के बारे में फैसला करेंगे.’ डोकलाम के निकट यातुंग के पास चीनी सैनिकों की लगातार मौजूदगी के बाद भारत ने भी कथित तौर पर वहां अपने सैनिकों को तैनात कर दिया.

17 नवंबर को दोनों देशों के बीच हुई थी बैठक

अधिकारियों ने बताया कि यह साफ नहीं है कि 17 नवंबर को भारत-चीन सीमा मामलों पर विचार-विमर्श और समन्वय के लिए कार्यकारी तंत्र की वार्ता में इस मुद्दे पर दोनों देशों ने चर्चा की अथवा नहीं. बैठक में भारत-चीन सीमा के सभी क्षेत्रों पर हालात की समीक्षा की गई और विश्वास बहाली के उपायों और सैन्य संपर्क को बढ़ाने पर विचारों का आदान-प्रदान हुआ. डोकलाम विवाद के बाद यह पहली बैठक थी।

दोनों देश मामले पर बनाए हुए हैं नजर

यह पूछे जाने पर कि डोकलाम जैसे संकट को टालने के लिये क्या दोनों पक्षों ने दोनों सेनाओं के बीच हॉटलाइन स्थापित करने की दिशा में कोई प्रगति की तो वू ने कहा कि दोनों पक्ष इस मुद्दे पर संपर्क में हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.