छत्तीसगढ़

नान घोटाले के चिंतामणि गिरफ्तार, पूर्व मंत्री मुंगेली विधायक की बढ़ सकती है मुश्किलें

मनीष शर्मा:

मुंगेली: छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के कार्यकाल मे बहुचर्चित नान घोटाले में ईओडब्लू ने आज एकाउंट आफिसर चिंतामणि चंद्राकर को गिरफ्तार कर लिया। ईओडब्लू ने कल दुर्ग से उन्हें हिरासत में लिया था।

वर्तमान मुंगेली विधायक पुन्नूलाल मोहले का नाम प्रमुखता

पिछले दिनों इस घोटाले के प्रमुख आरोपी बने शिवशंकर भट्ट ने 164 का बयान न्यायालय में दर्ज करा दिया है जिसमे तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह के अलावा पूर्व मंत्री एवं वर्तमान मुंगेली विधायक पुन्नूलाल मोहले का नाम प्रमुखता से लिया और इन्हें इस घोटाले का मुख्य षड्यंत्रकारी बताया है।

ऐसे में 15 साल अपने चुटीले, सरल, सहज अंदाज में रहने वाले पुन्नूलाल मोहले का असली रूप सामने आने लगा है और यह भी कयास लगना स्वाभाविक है कि आने वाले दिन अब कथरी ओढ़ घी खाने वाले पुन्नूलाल मोहले SIT व अन्य जांच के लपेटे में आ सकते है। यदि इसकी पुष्टि हुई तो विधायकी भी खतरे में जा सकती है।

नान घोटाले में असली चित्र न्यायालय एवं आमजनमानस के सामने

बहरहाल नान घोटाले में असली चित्र न्यायालय एवं आमजनमानस के सामने आने लगा है। अब आगे देखना यह भी होगा कि न्यायलयीन कार्यवाही में घोटाले के दायरे में आ रहे पूर्व मंत्री मोहले स्वयं न्यायालय में कोई बचाव पक्ष के लिए कोई अर्जी दाखिल करते है या पिछली सरकार और नौकरशाहों के कलमबंद हुए बयानों के आधार पर दोष स्वीकार करते है।

चिंतामणि को ईओडब्ल्यू द्वारा अभी राजधानी के किसी गुप्त ठिकाने में पूछताछ

यह भी बता दें नान घोटाले से जुड़े चिंतामणि को ईओडब्ल्यू द्वारा अभी राजधानी के किसी गुप्त ठिकाने में पूछताछ की जा रही है। संकेत हैं, शीघ्र ही मामले की हाई प्रोफाइल स्टोरी में नाम आ रहे मुंगेली विधायक पुन्नूलाल मोहले के संबंध में शिवशंकर भट्ट की तरह घोटाले के बारे में बयान दर्ज होगा उसके बाद ईओडब्लू इस मामले में बड़ा खुलासा करेगी।

ध्यान रहे 36 हजार करोड़ का नान घोटाला जब उजागर हुआ था, चिंतामणि नान के रायपुर आफिस में एकाउंट आफिसर थे। नान की चर्चित लाल डायरी में चिंतामणि का नाम कोड वर्ड में कई जगह सीएम साहब लिखा हुआ था। सीएम साहब को इस डेट में इतना पैसा दिया गया तो इस तारीख को इतना।

नान के मुख्य आरोपी शिवशंकर भट्ट ने दो रोज पहिले जो शपथ पत्र दिया, जिसमे मुंगेली विधायक पुन्नूलाल मोहले सहित लेखा अधिकारी रहे चिंतामणि का जिक्र था उसके बाद ही ईओडब्ल्यू ने चिंतामणि यानी सीएम साब पर शिकंजा कसते हुए दुर्ग से गिरफ्तार किया है।

नान मामले की एसआइटी गठित होने के बाद ईओडब्लू की टीम ने सबसे पहले चिंतामणि के ठिकानों पर दबिश देकर बड़े पैमाने पर अवैध संपति का पर्दाफाश किया था। रायपुर, दुर्ग, कांकेर से लेकर बंगलोर तक में चिंतामणि के नाम से प्लाट और मकान मिले थे।

हालांकि, मामला हाईप्रोफाइल होने की वजह से एसआइटी के अधिकारी इस चिंतामणि की गिरफ्तारी की पुष्टि करने से बच रहे हैं। मगर सीनियर आफिसर ने यह जरूर माना कि चिंतामणि को दुर्ग से रायपुर लाया गया है।

पूर्व मंत्री पुन्नूलाल मोहले के अलावा नान घोटाले में शिवशंकर भट्ट ने शपथ पत्र देकर पूर्व सीएम रमन सिंह,नान के पूर्व एमडी और रिटायर आईएफएस अधिकारी कौशलेंद्र सिंह का नाम लेते हुए उन्हें नान कांड का मुख्य षडयंत्रकारी बताया है।

Tags
Back to top button