बड़ी खबरराज्यराष्ट्रीय

चित्रकोट उपचुनाव :अब चुनावी मैदान में 6 उम्मीदवार, एक निर्दलीय प्रत्याशी ने नाम लिया वापस

जगदलपुर. चित्रकोट उपचुनाव के लिए आज नाम वापसी का अंतिम दिन था. इस दिन एक निर्दलीय उम्मीदवार धरमूराम कश्यप ने अपना नामांकन पत्र वापस ले लिया. अब चुनावी मैदान में 6 उम्मीदवार रह गए हैं. रिटर्निंग अधिकारी इंद्रजीत चंद्रवाल ने शेष प्रत्याशियों को चुनाव चिन्ह आवंटित कर दिया है.

रिटर्निंग अधिकारी ने जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रत्याशी बोमड़ा मंडावी को ‘हल जोतता’ किसान चुनाव चिन्ह आवंटित किया गया है. इसी तरह इंडियन नेशनल कांग्रेस के राजमन बेंजाम को ‘हाथ’, भारतीय जनता पार्टी के लच्छुराम कश्यप को ‘कमल’, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के हिड़मो राम मंडावी को ‘बाल और हंसिया’, आंबेडराईट पार्टी ऑफ इंडिया के लखेश्वर कवासी को ‘कोट’ और निर्दलीय प्रत्यीशी रितिका कर्मा को ‘सेब’ चुनाव चिन्ह आवंटित किया गया है.

बता दें कि नामांकन फार्मों की स्क्रूटनी के बाद मैदान में सात उम्मीदवार रह गए थे. 9 प्रत्याशियों ने अपना नामांकन दाखिल किया था. जिसमें कि दो निर्दलीय अभ्यर्थियों का नामांकन निरस्त कर दिया गया था. निर्दलीय प्रत्याशी अभय कुमार कच्छ का नामांकन उनकी उम्र कम होने की वजह से निरस्त किया गया. वहीं खिलेश तेता का फार्म प्रस्तावकों की न्यूनतम संख्या कम होने की वजह से अस्वीकार किया था. नाम वापसी के अंतिम दिन एक निर्दलीय ने अपना नामांकन वापस लिया. अब मैदान में 6 प्रत्याशी रह गए हैं.

चित्रकोट में 21 को मतदान

चित्रकोट विधानसभा उपचुनाव के लिए 21 अक्टूबर को मतदान होगा. जबकि 24 अक्टूबर को चुनाव के नतीजे आएंगे. चित्रकोट में कुल मतदाता 1 लाख 67 हजार 722 मतदाता है. जिसमें पुरूष मतदाता 79 हजार 218 है. वहीं महिला मतदाता 88 हजार 503 है. 1 थर्ड जेंडर मतदाता भी है.

लगातार दो बार हार चुकी है बीजेपी

बता दें कि चित्रकोट क्षेत्र में भाजपा के प्रमुख चेहरों में शुमार लच्छूराम को 2018 के आम चुनाव में 44 हजार 846 वोट मिले थे. कांग्रेस प्रत्याशी दीपक बैज को 62 हजार 616 वोट मिले थे. इसके बावजूद वे कांग्रेस के दीपक बैज से 17 हजार 770 मतों से चुनाव हार गए. 2013 के चुनाव में दीपक बैज ने भाजपा से तत्कालीन विधायक बैदूराम कश्यप को 12 हजार 359 मतों से हराया था. गौरतलब है कि दीपक बैज के सांसद बन जाने के बाद चित्रकोट विधानसभा सीट पर उपचुनाव होने की नौबत आई है.

यहां कांग्रेस और भाजपा में मुख्य मुकाबला होगा. वहीं इस बार कांग्रेस बस्तर संभाग से भाजपा के सफाए की रणनीति लेकर मैदान में उतर रही है. लेकिन अब ये आने वाला वक्त ही तय करेगी कि चित्रकोट पर कौन फतेह करेगा.

Tags
Back to top button