चित्तूर गोल्ड माइंस NMDC को आवंटित

एनएमडीसी के नाम एक और बड़ी उपलब्धि

रायपुर : नवरत्न कंपनी NMDC ने आंध्र प्रदेश के चित्तूर गोल्ड माइंस को ऑक्शन के माध्यम से हासिल कर लिया है। “सोने की खान” के लिए लगायी गयी बोली के आधार पर NMDC को ये माइंस आवंटित की गयी है। इस माइंस को हासिल करते ही एनएमडीसी के नाम एक और बड़ी उपलब्धि जुड़ गयी है।

इससे पहले देश की इस नवरत्न कंपनी ने हीरा खदान भी हासिल किया था। सोने की खदान को आक्शन के जरिये हासिल करना एनएमडीसी के लिए उस लिहाज से भी खास है, क्योंकि बोली लगाने वाले दावेदारों में कई बड़ी कंपनियां थी। वेदांता, अदानी, रामगढ़ खनिज, रूंगटा को पछाड़कर उसे ये माइंस हासिल हुई है। सीएमडी एन बैजेंद्र कुमार के कुशल नेतृत्व में एनएमडीसी के नाम दर्ज ये एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। बैजेंद्र कुमार ने जब से एनएमडीसी का जिम्मा संभाला है, तभी से एनएमडीसी की उपलब्धियों में लगातार इजाफा हो रहा है।

एनएमडीसी देश का पहला पीएसयू है, जिसने माइनिंग लीज का इस तरह से सफल ई-आक्शन किया है। एनएमडीसी को उम्मीद है कि खान से करीब साढ़े 8 टन सोने का उत्खनन किया जा सकता है। नीलामी के दौरान एनएमडीसी ने 38.25% की अंतिम बोली लगायी और ई-नीलामी के जरिये माइंस हासिल कर लिया।

सीएमडी एन बैजेंद्र कुमार ने गोल्ड माइनिंग को हासिल करने को NMDC के लिए बड़ी उपलब्धि बताया है। बैजेंद्र ने कहा कि “हमें गोल्ड माइंस मिली है, एनएमडीसी पर जो भरोसा जताया गया है, हम उस पर खरा उतरने की कोशिश करेंगे, हमारे लिए चैलेंजेज थे, जिसे हमलोगों ने पार करते हुए इस माइंस को हासिल किया है, गोल्ड माइँनिंग में भी हम अच्छा करेंगे और संसाधनों का सही सदुपयोग करेंगे”

new jindal advt tree advt
Back to top button