छत्तीसगढ़ की समृद्ध संस्कृति का प्रतीक है पोला पर्व – बृजमोहन

ऐतिहासिक रावण भाटा मैदान में परंपरा अनुसार इस वर्ष भी बैल दौड़,बैल सजाओं प्रतियोगिता तथा किसानों के सम्मान समारोह में हुए शामिल

रायपुर पोला के पावन पर्व पर रायपुर के ऐतिहासिक रावण भाटा मैदान में परंपरा अनुसार इस वर्ष भी बैल दौड़,बैल सजाओं प्रतियोगिता तथा किसानों का सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पधारे छत्तीसगढ़ प्रदेश के धर्मस्व कृषि एवं सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने किसानों द्वारा सजा-धजा कर लाये हुए उनके नंदी स्वरूप बैलों छत्तीसगढ़ी व्यंजन ठेठरी-खुरमी का भोग चढ़ाते हुए तिलक लगाकर, आरती उतारकर पूजा की। इस आयोजन को देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग पहुंचे थे।

इस अवसर पर उपस्थित जनों को संबोधित करते हुए बृजमोहन अग्रवाल ने आयोजनकर्ता कृष्ण जन्माष्टमी उत्सव एवं विकास समिति रायपुर की सराहना की और कहा कि इस समिति ने छत्तीसगढ़ की समृद्ध संस्कृति और गौरवशाली परंपराओं को जीवित रखने का जो बीड़ा उठाया है वह सराहनीय है। बृजमोहन ने कहा कि कभी रायपुर शहर के रामसागरपारा,बढ़ई पारा गुढ़ियारी आदि क्षेत्रों में बैल दौड़ प्रतियोगितायें होती थी। परंतु धीरे धीरे यह परंपरा है इन क्षेत्रों में लुप्त हो गई।

उन्होंने कहा कि रावणभाठा मैदान का यह महोत्सव पहले से भी ज्यादा भव्य और दिव्य हो। व्यवस्था पहले से बेहतर हो इसके लिए धर्मस्व विभाग से 1 लाख रुपये सहयोग प्रतिवर्ष करने की स्वीकृति प्रदान की।

समारोह के दौरान किसानों को साल-श्रीफल प्रदान कर सम्मानित करते हुए कहा कि बृजमोहन ने कहा कि अन्नदाताओं का सम्मान सर्वोपरि है।
इस अवसर पर रायपुर महापौर प्रमोद दुबे,भाजपा प्रवक्ता सचिदानंद उपासने,निगम सभापति प्रफुल्ल विश्वकर्मा,आयोजन समिति के अध्यक्ष माधव यादव,जोन अध्यक्ष सालिक सिंह ठाकुर,निगम के लोकनिर्माण प्रभारी सतनाम सिंह पनाग,पार्षद किरण साहू,जीवन जल क्षत्री,मंडल अध्यक्ष बिहारीलाल साहू,मोहन साहू,आभा तिवारी, मुकेश पंजवानी आदि उपस्थित थे।

Tags
Back to top button