चॉपर घोटाले बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को मिली कांसुलर एक्सेस

मिशेल को 26 फरवरी तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था

नई दिल्ली: अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी चॉपर घोटाले में कथित बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल 10 जनवरी को सीबीआई की विशेष अदालत में आवेदन करके अपने परिवार, दोस्तों और अपने वकीलों को अंतरराष्ट्रीय कॉल करने की अनुमति मांगी थी।

जिसपर कोर्ट ने जेल अधीक्षक से 14 जनवरी को रिपोर्ट देने को कहा है। मिशेल को पांच दिसंबर को दुबई से प्रत्यर्पित कर भारत लाया गया था। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अदालत में याचिका देकर कहा था कि मिशेल को दूसरे रक्षा सौदे में भी रकम मिली जिसकी जांच की जानी है।

इसी कड़ी में अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी चॉपर घोटाले में कथित बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को भारत स्थित ब्रिटिश उच्चायोग से कांसुलर एक्सेस (राजनयिक पहुंच) मिल गई है।

मिशेल से मुलाकात के बाद उच्चायोग ने कहा, ‘हमारा स्टाफ एक ब्रिटिश नागरिक का समर्थन कर रहा है जिसे भारत ने हिरासत में लिया है और हम उसकी सलामती देखने के लिए आए थे।’

अदालत ने ईडी की याचिका मंजूर करते हुए मिशेल को 26 फरवरी तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलिकॉप्टर सौदे से जुड़े सीबीआई के मामले में उसे 27 फरवरी तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

उसे 22 दिसंबर को प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार किया था और तब से अदालती आदेश पर एजेंसी की हिरासत में था।

मिशेल को 3600 करोड़ रुपये के वीवीआईपी हेलिकॉप्टर सौदे के सिलसिले में भारत लाया गया है। यह सौदा यूपीए सरकार के समय हुआ था जिसके तहत 12 लग्जरी हेलिकॉप्टर खरीदे जाने थे जिनका इस्तेमाल राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और अन्य वीआईपी लोगों के लिए होना था। मिशेल इस सौदे में शामिल तीन बिचौलियों में से एक है।

1
Back to top button