CIMS News: 16 माह में 2,637 मरीजों को मिला निश्शुल्क डायलिसिस…

ब्युरो चीफ : विपुल मिश्रा संवाददाता : राधिका पाखी

बिलासपुर. सिम्स में ऐसे ओपीडी (आउटसाइड पेशेंट डिपार्टमेंट) में पहुंचने वाले ऐसे मरीज जिनकी जांच में डायलिसिस की आवश्यकता पड़ती है, उनका सिम्स में पूरी तरह से निश्शुल्क डायलिसिस किया जा रहा है। सिम्स प्रबंधन और एसकेजी संजीवनी प्राइवेट लिमिटेड की ओर से यह सेवा दी जा रही है। इससे अब तक क्षेत्र के 2,637 मरीज लाभान्वित हुए हैं।

सिम्स में एसकेजी संजीवनी प्राइवेट लिमिटेड ने पिछले साल अपने खर्च पर डायलिसिस यूनिट संचालित करने की अनुमति मांगी थी। सिम्स प्रबंधन ने मरीज हित को ध्यान में रखते हुए उन्हें डायलिसिस यूनिट डालने की अनुमति दी। इसके बाद बीते साल आठ जुलाई 2020 को इस यूनिट का संचालन शुरू किया गया। वहीं अब 16 महीने के भीतर इस यूनिट के माध्यम से 2,637 मरीजों का निश्शुल्क डायलिसिस किया जा चुका है। यह डायलिसिस पूरी तरह से निश्शुल्क रहा है।

साथ ही मरीजों को दवाएं भी निश्शुल्क दी जा रही है। सिम्स के एमएस डा. नीरज शिंदे ने बताया कि एसकेजी संजीवनी प्राइवेट लिमिटेड द्वारा सिम्स में डायलिसिस यूनिट स्थापित करने के बाद सिम्स के डाक्टरों ने एक के बाद एक मरीजों का समय पर डायलिसिस करते हुए क्षेत्र के मरीजों को लाभान्वित किया है।

उन्होंने बताया कि यह कार्य आगे भी निरंतर जारी रहेगा।डा. शिंदे ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के कई मरीज दूर-दूर से आकर प्राइवेट अस्पताल में अत्यधिक पैसा खर्च कर डायलिसिस कराते हैं और कुछ मरीजों के पास पैसा नहीं होने के कारण वे निरंतर डायलिसिस की सुविधा प्राप्त नहीं कर पाते। लेकिन, सिम्स में मरीजों को लगातार निश्शुल्क डायलिसिस की सुविधा मिलती रहेगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button