ED का कोर्ट में दावा, मिशेल ने अगुस्टा के अलावा दूसरे रक्षा सौदों में भी पाए थे पैसे

नई दिल्ली।

अगुस्टा वेस्टलैंड वीवीआईपी चॉपर केस में गिरफ्तार हुए कथित बिचौलिये क्रिस्चन मिशेल ने दूसरे रक्षा सौदौं में भी पैसे पाए थे। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शनिवार को दिल्ली की एक अदालत में यह दावा किया। ईडी ने कोर्ट को बताया कि दूसरे रक्षा सौदों में भी मिशेल की भूमिका थी, जिसकी जांच की जानी है। बता दें कि कोर्ट ने मिशेल को 27 फरवरी तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

प्रवर्तन निदेशालय ने स्पेशल जज अरविंद कुमार को बताया कि मिशेल को अगुस्टा वेस्टलैंड डील से 2.42 करोड़ यूरो (करीब 192 करोड़ रुपये) और 1.6 करोड़ पाउंड (करीब 142 करोड़ रुपये) मिले थे। एजेंसी ने कोर्ट को बताया, ‘पूछताछ के दौरान यह पता चला कि उसने (मिशेल) दूसरे रक्षा सौदों में भी पैसे हासिल किए थे, जिनकी ईडी जांच करेगी।’

ईडी के स्पेशल पब्लिक प्रॉसिक्यूटरों डी. पी. सिंह और एन. के. मत्ता ने कोर्ट को यह भी बताया कि आरोपी ने कैश हासिल करने और प्रॉपर्टी खरीदने के लिए हवाला ऑपरेटरों के जरिए पैसे हासिल किए। शनिवार को मिशेल की 14 दिनों की कस्टडी पूरी हो रही थी, लिहाजा एजेंसी ने उसे कोर्ट में पेश किया। ईडी ने कोर्ट से मिशेल को न्यायिक हिरासत में भेजने की गुजारिश की, क्योंकि अगर उसे छोड़ा गया तो वह भाग सकता है।

ED ने जताई मिशेल के फरार होने की आशंका

ईडी ने कोर्ट से कहा, ‘आरोपी ब्रिटिश नागरिक है और उसकी भारत में जड़ें नहीं हैं। इस बात की आशंका है कि वह कानूनी प्रक्रिया से बचने के लिए भारत से फरार हो सकता है। उसका इतिहास भी इस आशंका को बल देता है।’ ईडी ने कहा, ‘उसे बड़ी कोशिशों के बाद प्रत्यर्पण के जरिए लाया गया है। उसके फरार होने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता।’ कोर्ट ने मिशेल को ईडी के मामले में 26 फरवरी तक और सीबीआई के मामले में
27 फरवरी तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

‘मिशेल की खरीदी संपत्तियों की कर ली गई है पहचान’

बता दें कि मिशेल को हाल ही में दुबई से प्रत्यर्पण के बाद ईडी ने उसे 22 दिसंबर को गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी के बाद से ही वह ईडी की कस्टडी में था। ईडी ने कोर्ट को यह भी बताया कि उसने मिशेल द्वारा गैरकानूनी ढंग से हासिल किए गए पैसों से खरीदी गईं संपत्तियों की पहचान कर ली है। एजेंसी ने कहा कि मिशेल ने तमाम सवालों के विरोधाभासी जवाब दिए।

‘बड़ा आदमी R कौन, यह करना है पता’

मिशेल की हिरासत बढ़ाने की अपनी अर्जी में ईडी ने यह भी दावा किया कि पूछताछ के दौरान उसने ‘एक इतालवी महिला के बेटे’ और कैसे वह देश का अगला प्रधानमंत्री बनने जा रहा है, उसके बारे में कहा था। एजेंसी ने अदालत से कहा, ‘हमें मिशेल और अन्य लोगों के बीच हुए संवाद में ‘आर’ के संदर्भ वाले बड़े आदमी के बारे में भी पता करना है।’ ईडी ने अदालत से अनुरोध किया कि उसे हिरासत में अपने वकीलों से मिलने से रोका जाए। एजेंसी ने आरोप लगाया कि उसके वकील उसे सिखा पढ़ा रहे हैं।

1
Back to top button