छत्तीसगढ़ में विकास के दावें बड़े लेकिन बच्चें संसाधन से दूर नदी के पानी पीने को मजबूर

रोशन सोनी

बतौली। छत्तीसगढ़ में विकास के दावे बड़े हैं, इतने बड़े हैं की हालही में हुए चुनाव भी सत्तासीन भाजपा सिर्फ विकास के दावों के बलबूते लड़ी और जीतने का दावा भी कर रही है।

बहरहाल परिणाम आना अभी शेष है लेकिन जिस प्रदेश के विकास का दम पूरे देश मे भरा जाता है उसकी असल तस्वीर कुछ और ही है। या कहें तो फिर ऐसा इसलिए भी हो रहा हैं जहां सत्ताधारी दल को 8 में से 7 सीटें गंवानी पड़ी थी इसलिए विकास यहां नही पहुंच सका।

मामला है सरगुजा जिले के बतौली विकासखंड के छोटे पुटुकेला स्कूल की जहां हैंडपंप से फ्लोराइड युक्त पानी निकलता है।

बार-बार शिकायत के बाद भी इस मामले में किसी तरह की कोई सूध नहीं ली गई। लगातार फ्लोराइड युक्त पानी पीने के बाद बच्चों के दांत गंदे हो रहे हैं।
नतीजा यह हैं कि बच्चे पास की नदी से पानी पीते हैं।

यहां के बच्चों को संसाधन के आभाव में पानी पीता देख आपको ऐसा लगेगा की शायद हम आज भी आदि काल मे हैं क्योंकि आदिकाल के बाद मनुष्य सभ्यता सीख चुका है।

जहां जानवर और इंसान के बीच का बड़ा भेद आदिकाल के बाद ही सभ्य समाज के रूप में सामने आया, लेकिन यहां के बच्चे नदी के किनारे रेत में गड्ढा करते है और किसी पशु की तरह उस गड्ढे में मुँह डाल कर अपनी प्यास बुझाते है।

1
Back to top button