छत्तीसगढ़

कोरबा जिले में गड्ढे और धूल से भरी सड़क को सुधारने के दावे फेल

कोरबा से चांपा और कटघोरा - पाली सड़क की दशा में अब भी सुधार नहीं हुई है। निर्माण मरम्मत के लिए के लिए 56 करोड़ की स्वीकृति हुई है।

बिलासपुर: कोरबा से चांपा और कटघोरा – पाली सड़क की दशा में अब भी सुधार नहीं हुई है। निर्माण मरम्मत के लिए के लिए 56 करोड़ की स्वीकृति हुई है। बारिश बीतने के माह भर बाद सुधार कार्य पूर्ण करने का दावा लोक निर्माण विभाग ने किया था। चार माह बाद भी काम पूरा नहीं होने से विभाग के दावे फेल साबित हुआ है। बारिश थमने के चार माह बाद भी सुधार नहीं होने विभाग की असफलता को दर्शा रहा है। आवागमन में आम लोगों को असुविधा का सामना करना पड़ रहा है।

कोरोना संक्रमण के बीच लाक डाउन खुलने के बाद सड़कों में वाहनों की आवागमन फिर से सामान्य हो चुकी है। इस बीच सड़क में सुधार नहीं किए जाने का खामियाजा आम यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है। सड़क सुधार की जिम्मेदारी लोक निर्माण विभाग को दी है। सड़क को कई जगह से छोड़ – छोड़कर सुधार किया गया है।

सुधार के दौरान कमोबेश जिन जगहों में कम गड्ढे मानकर छोड़ दिया गया था, अब वे फिर से जर्जर हो चुके हैं। ऐसी दशा कोरबा पाली के बीच जमनीपाली, छुरी, चैतमा आदि जगहों में देखी जा सकती है। इसी तरह शहर से चांपा पहुंच के बीच कनबेरी, उरगा के पास सड़क की दशा दयनीय है। मार्ग में सुधार कार्य तत्परता से पूरा कराने में लोक निर्माण विभाग की उदासीनता देखी जा रही है।

कोरबा चांपा मार्ग में जहां रेलिंग विहीन पुल खतरे को आमंत्रण दे रहा है वहीं कटघोरा पाली मार्ग में कार्य को पखवाड़े भर से अधूरा छोड़ दिया गया है। ठेकेदार पर विभाग का नियंत्रण नहीं होने से काम समय पर नहीं हो रहा। दुर्घटना की संभावना को देखते हुए पुल के निकट किसी तरह का सांकेतिक बोर्ड नहीं लगाया गया है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button